न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजस्‍व खुफिया निदेशालय ने पकड़ा तीन हजार करोड़ का डायमंड आयात घोटाला

591

Mumbai : मुंबई में तीन हजार करोड़ के डायमंड आयात घोटाले का खुलासा हुआ है. खबरों के अनुसार हीरे के व्‍यापारियों ने कीमत तय करनेवालों की मदद से हीरे की कीमत को ज्‍यादा बताकर आयात किया और इसके बदले  काला धन विदेश भेज दिया. बताया जा रहा है कि पिछले डेढ़ साल में करीब तीन हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी हुई है. राजस्‍व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) ने इस घोटाले का पर्दाफाश किया है. डीआरआई के अधिकारियों के अनुसार इस मामले में हीरे के एक आयातक ने एक करोड़ रूपये के हीरे का मूल्‍य 160 करोड़ रुपये दिखा कर घोटाला किया.

हीरे की कीमत प्रदीप झावेरी, नरेश मेहता और परेशा शाह तय करते थे

पकड़े जाने के डर से अब आरोपी आयातक फरार हो गया है. इस मामले में उसने 159 करोड़ रुपये देश से बाहर भेजे दिये. हीरे की कीमत तय करनेवालों की पहचान प्रदीप कुमार झावेरी, नरेश मेहता और परेशा शाह के रूप में की गयी है. बताया गया है कि इन लोगों ने हीरे के आयातक को अपनी मौन सहमति दी थी. इस घोटाले में चौथे व्‍यक्ति की पहचान कस्‍टम क्लियरिंग एजेंट विशाल कक्‍कड़ के रूप में की गयी है. डीआरआई के अनुसार हीरे की कीमत तय करने वाले लोगों ने कई आयातकों के साथ साठगांठ कर आयात किये गये हीरों का ज्‍यादा कीमत वाला सर्टिफिकेट जारी कर दिया.

hosp1

कस्‍टम अधिकारियों की भूमिका खारिज नहीं की जा सकती

सूत्रों के अनुसार इस पूरे मामले में कस्‍टम अधिकारियों की भूमिका खारिज नहीं की जा सकती है. इससे पूर्व नीरव मोदी के मामले में खुलासा हुआ था कि वह लो क्‍वॉलिटी का हीरा ज्‍यादा कीमत में निर्यात करता था ताकि विदेशों से काला धन वापस भारत लाया जा सके. बता दें कि भारत में कच्‍चे हीरे के आयात पर 0.25% ड्यूटी लगती है. दुनिया में बिकने वाला 95 फीसदी पॉलिश्ड डायमंड भारत से बाहर भेजा जाता है. नियमानुसार हीरों कस्‍टम विभाग के एयर कार्गो यूनिट द्वारा स्‍वीकृति दिये जाने के बाद  हीरे व्‍यापारियों के पास पहुंचते हैं.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: