न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#VeerSavarkar पर कांग्रेस में मतभेद, मनु सिंघवी ने कहा- सावरकर ने आजादी की लड़ाई में निभाई भूमिका

कांग्रेस के ही कुछ नेता वीर सावरकर को देशभक्त नहीं मानते, वहीं कुछ नेता आजादी की लड़ाई में उनकी भूमिका को स्वीकार करते हैं.

1,030

New Delhi: वीर सावरकर को लेकर कांग्रेस नेताओं में ही मतभेद नजर आ रहे हैं. महाराष्ट्र में भाजपा के चुनावी घोषणापत्र में वीर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग को लेकर उठी राजनीतिक बहस के बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अभिषेक मनु सिंघवी ने सोमवार को सावरकर की तारीफ की है.

मनु सिंघवी ने कहा कि वीर सावरकर ने आजादी की लड़ाई में अहम भूमिका निभाई और देश के लिए जेल गए. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि वह निजी तौर पर सावरकर की विचारधारा से सहमत नहीं हैं.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में महिलाओं के खिलाफ नहीं थम रहा अपराध, आठ महीनों में दहेज के लिए 210 महिलाओं की हत्या

योगदान को भूला नहीं जा सकता

30 may to 1 june

सिंघवी ने ट्वीट कर कहा, ‘मैं व्यक्तिगत तौर पर सावरकर की विचारधारा से सहमत नहीं हूं. लेकिन इस तथ्य को नकारा नहीं जा सकता कि वह निपुण व्यक्ति थे. जिन्होंने आजादी की लड़ाई में भूमिका निभाई, दलित अधिकारों की लड़ाई लड़ी और देश के लिए जेल गए. यह कभी नहीं भूलना चाहिए.’

पीएम मोदी की तारीफ

कांग्रेस नेता ने महात्मा गांधी के संदेशों के प्रसार के लिए हिंदी सिनेमा की हस्तियों की मदद लेने की खातिर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की भी तारीफ की.

सिंघवी ने कहा, ‘ जहां कोई तारीफ का हकदार है वहां उसकी तारीफ होनी चाहिए. गांधी जी के स्वच्छता से जुड़े सन्देश के प्रसार के लिए नरेंद्र मोदी बॉलीवुड की सॉफ्ट पावर का इस्तेमाल कर रहे हैं.’

 

सावरकर के संदर्भ में सिंघवी की इस टिप्पणी से कुछ दिनों पहले ही पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने मुंबई में संवाददाता सम्मेलन में कहा था कि प्रधानमंत्री रहते हुए इंदिरा गांधी ने सावरकर की याद में डाक टिकट जारी किया था.

उन्होंने यह भी कहा था कि हम सावरकर के खिलाफ नहीं हैं, बल्कि उस विचारधारा के खिलाफ हैं, जिसके पक्ष में वह (सावरकर) खड़े थे.

गौरतलब है कि महाराष्ट्र भाजपा ने अपने चुनावी घोषणापत्र में सावरकर को भारत रत्न दिये जाने की मांग की है. इसके बाद से ही इस मसले पर सियासी घमासान छिड़ गया है.

भाजपा का यह घोषणापत्र आने के बाद कांग्रेस प्रवक्ता मनीष तिवारी ने अपनी पहली प्रतिक्रिया में कहा था कि अगर सावरकर को भारत रत्न देने पर विचार होता है तो फिर इस देश को भगवान बचाए. वहीं सांसद असीउद्दीन औवेसी ने कहा था कि अगर सावरकर को भारत रत्न मिलना चाहिए, तो फिर गोडसे को भी.

इसे भी पढ़ेंःक्या है पत्थलगड़ी का गुजरात-राजस्थान कनेक्शन, समर्थक अभिवादन में ‘जोहार’ की जगह कहते हैं ‘पितु की जय’

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

o1
You might also like