JharkhandRanchi

DGP की पहल पर शुरू हुआ डायल-100 बुजुर्गों के लिए बना वरदान, पिछले 18 दिनों में 193 को मिली मदद

Ranchi :  झारखंड में लगातार कोरोना के मरीज बढ़ रहे हैं. इसकी रोकथाम के लिए लॉकडाउन जारी है. जिसमें लोगों को काफी परेशानी भी हो रही है. ऐसे में झारखंड के डीजीपी एमवी राव की पहल पर डायल- 100 की शुरुआत की गयी है.

Jharkhand Rai

यह सुविधा घरों में अकेले रहनेवाले बुजुर्गों के लिए शुरू की गयी थी. ताकि वजरूरत पड़ने पर अपने लिए दवाइयां और एंबुलेंस मंगा सकें. अब यह सुविधा बुजुर्गों के लिए वरदान साबित हो रही है. पिछले 18 दिनों की बात करें तो डायल- 100 के द्वारा अकेले रहने वाले 193 बुजुर्गों को मदद मिली है. जिनमें 155 बुजुर्गों को दवा उपलब्ध करायी गयी है.

और 38 बुजुर्ग को एंबुलेंस की सुविधा उपलब्ध करायी गयी है. या फिर पुलिस ने खुद के वाहन से बुजुर्गों को अस्पताल पहुंचाने का काम किया है. सबसे अधिक राजधानी रांची में अकेले रहने वाले बुजुर्गों को इसकी मदद मिली है. राजधानी रांची में रहने वाले 30 बुजुर्गों को डायल-100 के माध्यम से मदद मिली.

इसे भी पढ़ेंः #CBSE 10वीं-12वीं के बचे हुए पेपर की परीक्षा तिथि जारी, जानें किस दिन होगी किस विषय की परीक्षा

Samford

 18 दिनों में 193 बुजुर्गों को मिली मदद

 पिछले 18 दिनों में डायल- 100 के माध्यम से 193 बुजुर्गों को मदद मिली है. जिनमें रांची में 30, गुमला 19, लोहरदगा 1, सिमडेगा 14, खूंटी 3, जमशेदपुर 15, पलामू 17, गढ़वा 4, लातेहार 3, हजारीबाग 2,रामगढ़ 3,कोडरमा 2,चतरा 2, गिरिडीह 3, धनबाद 16, बोकारो 23, दुमका 6, देवघर 1, जामताड़ा 7, गोड्डा 4, पाकुड़ 4 और साहिबगंज में 1 बुजुर्गों को मदद मिली है.

इसे भी पढ़ें: अनाज ना बंटने की वजह से अटा पड़ा सरकारी गोदाम, 5500 क्विंटल कडरू में तो नगड़ी में 200 ट्रक अनलोडिंग के लिए खड़े

 बुजुर्गों को दवा व जरूरत पड़ने पर अस्पताल पहुंचा रही पुलिस

 डीजीपी एमवी राव की पहल पर 100  नंबर डायल के जरिये घरों में अकेले रहनेवाले बुजुर्गों को दवा व जरूरत पड़ने पर अस्पतालों तक पहुंचाया जा रहा है. कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण के मद्देनजर राज्य में लॉकडाउन के दौरान सार्वजनिक वाहन का परिचालन बंद है.

वैसे बुजुर्ग जिनके पुत्र या रिश्तेदार उनके साथ नहीं रहते हैं, उन्हें आकस्मिक चिकित्सीय सुविधा और दवा प्राप्त करने में कठिनाई का सामना करना पड़ता है. ऐसी कई सूचनाएं मिलने के बाद डीजीपी एमवी राव की पहल पर झारखंड पुलिस ने 29 अप्रैल से इस सेवा की शुरुआत की है.

यदि इन बुजुर्गों को किसी दवा की आवश्यकता हो और वह अपने अगल-बगल के स्थान से इसे स्वयं प्राप्त करने में सक्षम नहीं हैं तो पुलिस दवा खरीद कर घर पर उपलब्ध करा रही है.

यह सुविधा बुजुर्ग डायल 100 के माध्यम से लॉकडाउन तक प्राप्त कर सकें, इसके लिए सभी जिलों के वरीय पुलिस अधीक्षक और पुलिस अधीक्षक को आवश्यक निर्देश जारी किये गये हैं.

इसे भी पढ़ेंः गाजियाबाद: उड़ी सोशल डिस्टेंसिंग की धज्जियां, जमा हुए हजारों प्रवासी, और महज 500 मीटर की दूरी पर है कोरोना मरीज

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: