न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Dhullu: विधायक ढुल्लू महतो की सजा पर लोगों ने दी प्रतिक्रिया, कहा – भाजपा राज में कानून व्यवस्था नाम की चीज हो गयी है खत्म

666

Dhanbad : थानेदार की वर्दी फाड़ने के मामले में धनबाद के लोगों ने प्रतिक्रिया दी है. लोगों ने इस मामले में न्यायपालिका पर भरोसा जताया और सरकार की मनमानी को कम सजा मिलने का कारण बताया.

उन्होंने कहा कि भाजपा के राज में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है. जिस कारण विधायक ढुल्लू महतो को अपेक्षा से कम सजा मिली है.

Mayfair 2-1-2020

देखें वीडियो-

इस तरह के मामले में झारखंड के अन्य दो विधायकों की कुर्सी जा चुकी है. और विधायक ढुल्लू महतो का इस मामले में बाल भी बांका नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें – सरकारी दावा झारखंड #ODF: गुमला ने पूरा किया 90% टारगेट लेकिन निर्माण के नाम पर एक करोड़ का घोटाला

Vision House 17/01/2020

संबंधित पक्ष खटखटा सकते हैं ऊपरी अदालत का दरवाजा

न्यूज विंग से बात करते हुए अधिवक्ता सह कांग्रेस के जिलाध्यक्ष ब्रजेंद्र सिंह ने कहा कि विधायक ढुल्लू महतो को डेढ़ साल की सजा सुनायी गयी है. यह एक न्यायिक प्रक्रिया है.

इस तरह के मामलों में तीन साल तक की सजा होती है. यह कोर्ट के विवेक पर निर्भर करता है. लेकिन न्यायालय को उनके बैकग्राउंड के बारे में भी सोचना चाहिए था, फिर सजा सुनानी चाहिए थी. अब संबंधित ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटा सकते हैं.

सरकारी तंत्र ने केस को कमजोर बनाने की कोशिश की

वहीं समाजसेवी जेपी वालिया ने कहा कि भाजपा के राज में कानून व्यवस्था नाम की कोई चीज नहीं रह गयी है. विधायक ढुल्लू महतो को सजा देकर न्यायपालिका ने अपना काम किया लेकिन सरकारी तंत्र ने इसको कमजोर बनाने की हर संभव कोशिश की.

इसे भी पढ़ें – #JharkhandElection: 25 Oct से लेकर 5 Nov तक हो सकती है झारखंड में चुनाव की घोषणा, पार्टियां बड़ी रैली की तैयारी में

परिणाम यह हुआ है कि ढुल्लू महतो की विधायकी बची रह गयी है. उन्होंने कहा कि आम आदमी अगर ऐसी हिमाकत करता तो पुलिस उसे कहीं का नहीं छोड़ती. लेकिन ढुल्लू आम आदमी नहीं हैं.

सरकार के दबाव में आकर सुनाया गया फैसला

वहीं एनसीपी के प्रदेश अध्यक्ष प्रभाकर ने तो यहां तक कहा कि न्यायालय ने सरकार के दबाव में आकर यह फैसला सुनाया है. बात वही है कि सैंयां भयो कोतवाल तो अब डर काहे का.

उन्होंने कहा कि एक संगीन अपराध में विधायक को बेहद मामूली सजा सुनायी गयी है. उन्होंने बताया कि यह सजा एक डांट जैसी है. जैसे गलती करने पर अभिभावक अपने बच्चे को डांटते हैं.

इसे भी पढ़ें – #DoubleEngine सरकार में बेबस छात्र- 6 : सिर्फ विज्ञापन और आवेदन तक ही सिमटी रही 56 सहायक लोक स्वास्थ्य पदाधिकारियों की नियुक्ति

Ranchi Police 11/1/2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like