न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

चार्ज लेते ही चुनौतियों से घिर गये धनबाद के नये एसएसपी किशोर कौशल

605

Dhanbad: धनबाद की परिस्थितियों से निबटना हंसी-खेल नहीं है. परिस्थितियां विकट से विकटतर होती जा रही है. इसी बीच धनबाद में मनोज रतन चोथे की जगह नये एसएसपी के रूप में पदभार ग्रहण करनेवाले कौशल किशोर को विकट स्थित से दो-चार होना पड़ रहा है. बाघमारा के विधायक ढुल्लू महतो से जुड़े मामले नये एसएसपी के लिए परेशानी का सबब बने हुए हैं. नये एसएसपी कौशल किशरो ने जिस दिन पदभार ग्रहण किया उसी दिन धनबाद भाजपा की कतरास की एक नेत्री ने कतरास थाना के समक्ष आत्मदाह की कोशिश की और विधायक ढुल्लू महतो पर शारीरिक शोषण करने का आरोप लगाया. इसे लेकर ऑनलाइन शिकायत भी दर्ज करायी. इसे ढुल्लू महतो ने सांसद रवींद्र पांडेय और अन्य नेताओं की साजिश करार देकर सीबीआइ जांच की मांग की. पुलिस इस मामले में जांच की पहल करती कि दूसरे दिन एक अन्य महिला ने गिरिडीह के भाजपा सांसद रवींद्र पांडेय, भाजपा नेता विनय सिंह सहित अन्य नेताओं पर शारीरिक शोषण करने संबंधी ऑनलाइन शिकायत दर्ज करवा दी. सत्तारूढ़ भाजपा के अंदरूनी विवाद से जुड़े मामले में एसएसपी कौशल कैसे सामंजस्य बिठायेंगे यह बड़ा सवाल है. चर्चा है कि विधायक और सांसद के बीच संगठन पहल करके समझौता करवा सकता है. हालांकि, एसएसपी ने दोनों मामले की जांच की जिम्मेवारी बाघमारा डीएसपी मनोज कुमार को दे दी है. मनोज कुमार ने ढुल्लू पर आरोप लगानेवाली नेत्री से रविवार को पूछताछ की. हिंदुस्तान जिंक के गेस्ट हाउस का मुआयना किया, जो घटनास्थल बताया जा रहा है. सोमवार को भी उनकी जांच जारी थी. सवाल है कि सत्तारूढ़ दलों के नेताओं से जुड़े मामले में पुलिस आम मामलों की तरह कार्रवाई कैसे करे? आम आदमी से जुड़ी ऐसी शिकायत पर पुलिस क्या करती यह सवाल है. जबकि, सत्तारूढ़ दल के विधायक और सांसद पर महिलाओं ने शारीरिक शोषण की ऑनलाइन शिकायत दर्ज करवायी है. इसे लेकर अब तक एफआइआर नहीं होना आश्चर्यजनक है.

रंगदारी बढ़ाने के कारण बंद है कोयला लोडिंग

रंगदारी की नयी दर प्रतिटन 1250 रुपये रंगदारी देने से इनकार करने के कारण कतरास क्षेत्र में डीओ होल्डरों के कोयले का उठाव नहीं हो रहा है. जिले भर में 120 हार्ड कोक और कोयला आधारित उद्योग हैं. इन उद्योगों को कोयला नहीं मिल रहा है तो कारोबारी क्या करेंगे? मामले में बीसीसीएल प्रबंधन, जिला प्रशासन और पुलिस के हस्तक्षेप की उम्मीद इंडस्ट्रीज और कॉमर्स एसोसिएशन ने की है. मगर, डीओ होल्डरों की गाड़ी खदेड़ देने के बाद भी पुलिस का हस्तक्षेप नहीं करना इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन के पदाधिकारियों को खल रहा है. अब क्या लाचार होकर ढुल्लू के संरक्षण में चलनेवाली लोडिंग की नयी दर 1250 रुपये प्रतिटन भुगतान कर उद्योगवाले लोडिंग शुरू कराएंगे या कोई कड़ा निर्णय लेंगे? याद दिला दें कि डीओ होल्डर ढुल्लू के प्रभाव क्षेत्र वाले लोडिंग प्वाइंट पर पहले 400 रुपये प्रतिटन, उसके बाद 650 रुपये प्रतिटन रंगदारी का भुगतान करते थे. इस मामले में न्यूज विंग से बातचीत में इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष बीएन सिंह ने बताया कि वे लोग मजदूरी का पूरा भुगतान भीम एप्प के जरिये मजदूरों के खाते में करना चाहते हैं. जबकि, रंगदार 200-250 रुपये से अधिक मजदूरों को भुगतान नहीं करते. सारा पैसा हड़प जाते हैं.

रंगदारी वसूली में पुलिस और सीआइएसएफ भी हिस्सेदार

यह सभी जानते हैं कि बीसीसीएल के लोडिंग प्वाइंटों पर होनेवाली रंगदारी वसूली में पुलिस और सीआइएसएफ हिस्सेदार होता है. अगर, ऐसा नहीं होता तो कोई लोडिंग प्वाइंट पर रंगदारी वसूली नहीं कर सकता. एसएसपी किशोर कौशल ने यहां पदभार लेते ही कहा कि वह जिले से हर तरह का आर्थिक अपराध खत्म करेंगे. ऐसे में कोयले की साइकिल से अवैध ढुलाई को भी आर्थिक अपराध करार देनेवालों ने सोमवार की दोपहर को भी शहर में यह होता देख उसपर अंगुली उठायी.

सवाल है क्या रंगदारी के कारण बंद होगा उद्योग

बढ़ी हुई रंगदारी की रकम देने से डीओधारकों के इनकार करने से जिस तरह की स्थिति बनी है, उसमें दो ही बात हो सकती है. एक, या तो रंगदारी वसूली की नयी तय रकम देकर डीओधारक लोडिंग शुरू करायें या उद्योगों में ताला लगाकर चाबी मुख्यमंत्री रघुवर दास को रांची जाकर सौंप दें. संभावना है कि इंडस्ट्रीज एंड कॉमर्स एसोसिएशन सोमवार कभी भी इस मामले में बैठक कर कोई ठोस फैसला लेगा.

इसे भी पढ़ें – विदिशा हत्याकांड की गुत्थी तो सुलझ नहीं सकी, अब इंसाफ मांगनेवाली छह महिलाओं को ही भेज दिया गया नोटिस

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: