Dhanbad

धनबादः कोयला उद्योग के निजीकरण के खिलाफ कर्मी, हड़ताल से पहले केंद्र के खिलाफ नारेबाजी

Dhanbad: केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ कोल कर्मचारियों ने अपनी नाराजगी दर्ज करायी है. कोयला के निजीकरण के खिलाफ बुधवार को पांचों ट्रेड यूनियन के नेताओं ने बाघमारा-कतरास क्षेत्र के कोलियरी कार्यालयों में पहुंच कर प्रदर्शन किया और केंद्र सरकार के खिलाफ जमकर नारेबाजी की. साथ ही गुरुवार से होनेवाले तीन दिवसीय आंदोलन को सफल बनाने का संकल्प लिया.

इसे भी पढ़ेंःधनबाद के पूर्व SSP के खिलाफ CID को नहीं मिला कोई साक्ष्य, ECL कर्मी को गांजा तस्कर बताकर भेजा था जेल

‘कोल कर्मियों की आजादी छीन रहा केंद्र’

यूनियन के नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार की कोल मजदूर विरोधी नीति से कोल कर्मियों में जबरदस्त आक्रोश है. इस विरोधी नीति के खिलाफ कोल कर्मी हड़ताल को पूर्ण रूप से सफल बनाने का संकल्प ले चुके हैं. वही मीडिया से बात करते हुए यूनियन नेता लग्नदेव यादव ने कहा कि कांग्रेस ने कोयला उद्योग को राष्ट्रीयकरण कर कोल कर्मियों को आजादी दिलाने का काम किया था. लेकिन वर्तमान केंद्र की सरकार निजीकरण कर कर्मियों की आजादी को छीनने में लगी हुई है, जिसे कोल कर्मी कतई बर्दाश्त नहीं करेंगे.

साथ ही नेताओं ने यह भी कहा कि चुनाव में भाजपा सरकार कोयला खदानों को गिरवी रख चुकी है. जिसका कर्ज़ चुकाने के लिए मजदूर विरोधी कार्य केंद्र सरकार कर रही है. इसलिये सेंट्रल ट्रेड यूनियन के आह्वाहन पर मजदूरों ने 2 ,3और 4 जुलाई की हड़ताल को सफल बनाने के लिए संकल्प ले लिया है.

इसे भी पढ़ेंःकोरोना से उत्पन्न संकट का सामना सिर्फ मुफ्त राशन के भरोसे नहीं किया जा सकता

Telegram
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close