न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबादः तेज आवाज के साथ फिर धंसी धरती, गोफ बनने से दहशत

लगातार गैस रिसाव से लोगों को हो रही परेशानी

289

Dhanbad: धनबाद में एक बार फिर धरती धंसने से दहशत है. जिले के सुदामडीह मेन कॉलोनी फिल्टर हाउस के समीप जोरदार आवाज के साथ फिर से जमीन धंसी है. लगातार हो रहे भू धंसान से लोग काफी डरे-सहमे है. हालांकि, बीसीसीएल भौरा एरिया के अधिकारी ने गोफ की भराई करने का आदेश दे दिया है.

इसे भी पढ़ेंःवन विभाग में अब तक 1100 करोड़ का पौधारोपण, करोड़ों का घपला, फाइल पर कुंडली मारकर बैठे अफसर

गोफ भराई का काम भी जोरों से चल रहा है, लेकिन गोफ को भरने के बाद बेकाबू गैस दूसरे रास्ते से निकल रही है.  जिसके कारण कई जगहों पर शुक्रवार को हुई जोरदार बारिश से फिर गोफ बन गया है.

इसे भी पढ़ें- IAS, IPS और टेक्नोक्रेटस छोड़ गये झारखंड, साथ ले गये विभाग का सोफासेट, लैपटॉप, मोबाइल,सिमकार्ड और आईपैड

50 फीट धंसी जमीन

आये दिन होते भू-धंसान से स्थानीय लोगों में जहां दहशत है. वही लोगों की मानें तो, शुक्रवार रात करीब 2 बजे,  धनबाद के झरिया अंचल के सुदामडीह फिल्टर हॉउस के पास अचानक तेज आवाज के साथ कई जगहों पर जमीन लगभग 50 फ़ीट धंस गई है.  भारी मात्रा में गैस भी रिसाव हो रहा है. जिसके कारण स्थानीय लोगों को सांस लेने में भी काफी दिक्कत हो रही है. लोगों ने घटना की जानकारी फिर से बीसीसीएल के प्रबंधक को दी है. लेकिन खबर लिखने तक कोई भी अधिकारी घटना स्थल पर नहीं पहुंचा है.

इसे भी पढ़ें- UPA शासनकाल में PM के PS रहे सीनियर IAS का भी झारखंड से मोह भंग

हालांकि, सिक्योरिटी ने पूरे एरिया को सील कर दिया है. गौरतलब है कि हादसे वाले इलाके में आसपास में हजारों परिवार रहते हैं. स्थानीय लोगों का कहना है कि बीसीसीएल अधिकारियों द्वारा कोई सुविधा नहीं दी गई है. बीसीसीएल के अधिकारी जबरन हटाने में लग गए है. साथ ही कहा कि रोजगार के बगैर उनका गुजारा कैसे होगा. वो जायें तो आखिर कहां.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: