DhanbadJharkhand

धनबाद : समाजसेवी ने ढुल्लू के खिलाफ लगायी पीआइएल, हाइकोर्ट ने बीसीसीएल व सरकार को भेजा नोटिस

Dhanbad : बाघमारा में बीसीसीएल की विभिन्न कोलियरियों के कोयला व्यवसायियों से ढुल्लू और उसके गुर्गों द्वारा रंगदारी मांगे जाने के खिलाफ समाजसेवी बलदेव वर्मा ने हाईकोर्ट में पीआइएल दाखिल की है. हाइकोर्ट ने इस मामले में सरकार व बीसीसीएल प्रबंधन को नोटिस भेजकर जवाब-तलब किया है.

इस संबंध में समाजसेवी बलदेव वर्मा का कहना है कि बाघमारा क्षेत्र में विधायक ढुल्लू महतो का आतंक बढ़ गया है. ढुल्ले के गुंडे डीओ धारकों से प्रति टन कोयला 1250 रुपये रंगदारी मांग रहे हैं. रंगदारी मांगे जाने के कारण डीओ धारको ने डीओ डालना बंद कर दिया है. इससे लगभग 20 हजार मजदूर प्रभावित हुए हैं. इन मजदूरों के समक्ष रोजी-रोटी की समस्या उत्पन्न हो गयी है.

advt

इसे भी पढ़ें : 12 सितंबर को रांची आयेंगे पीएम मोदी, विधानसभा भवन का करेंगे उद्घाटन

ट्रक और डंपरों का परिचालन लगभग बंद

वर्मा ने कहा कि बाघमारा क्षेत्र में ट्रक और डंपरों का परिचालन लगभग बंद हो गया है, जिसका सीधा असर यहां के बाजार पर पड़ रहा है. ढुल्लू की रंगदारी के कारण बाजार में मंदी की स्थिति है. पहले यहां पर बाहर से लोग रोजगार की तलाश में आते थे, अब यहां से लोग रोजगार की तलाश में पलायन करने को मजबूर हैं.

उन्होंने कहा कि इन सात-आठ सालों में बाघमारा क्षेत्र की स्थिति बद से बदतर हो गयी है. इसका श्रेय विधायक ढुल्लू महतो को जाता है. समाजसेवी बलदेव वर्मा ने कहा है कि मैंने ढुल्लू की इसी रंगदारी के विरुद्ध पीआइएल  दायर की है और माननीय न्यायालय से न्याय की गुहार लगायी है.

इंडस्ट्री एंड कॉमर्स भी ढुल्लू के खिलाफ उठा चुका है आवाज

धनबाद में कोयला व्यवसायियों का संगठन इंडस्ट्री एंड कॉमर्स भी ढुल्लू की रंगदारी के खिलाफ आवाज उठा चुका है. इंडस्ट्री एंड कॉमर्स के पदाधिकारियों ने इस मामले की शिकायत पीएमओ तक की. इसके बाद डीसी की अध्यक्षता में एक हाई पावर कमेटी भी बनी. इसके बावजूद ढुल्लू का आतंक क्षेत्र में कम नहीं हुआ.

adv

इसे भी पढ़ें : मेन रोड में पहले ही दिन सिटी बस पर पथराव, पीछे का शीशा टूटा, दो यात्री घायल

गुंडागर्दी की दास्तान

केस स्टडी – 1

बाघमारा के जमुनिया कोलियरी में 29 अगस्त को कोयला व्यापारी शंकर अग्रवाल के ट्रक को ढुल्लू के गुंडों ने घुसने नहीं दिया. ट्रक चालक की जमकर पिटाई कर दी गयी. इस घटना के खिलाफ शंकर अग्रवाल ने बाघमारा थाना में शिकायत की. मामले में एफआइआर दर्ज की गयी लेकिन पुलिस ढुल्लू के गुंडों के खिलाफ कार्रवाई करने की हिम्मत अब तक नहीं जुटा पा रही है.

 

केस स्टडी – 2

अप्रैल 2018 में जगदीश राय नामक व्यक्ति को गोविंदपुर क्षेत्र के आकाशकिनारी में 100 टन कोयला मिला. 25 अप्रैल को डीओ धारक का ट्रक गया तो गोली चल गयी. जगदीश राय तिनका भर कोयला भी नहीं निकाल सके.

केस स्टडी – 3

मई 2018 को श्री विनय इंटरप्राइजेज के साथ भी यही हुआ. दो बार डीओ लेटर के आधार पर कोयला उठाव का प्रयास किया गया लेकिन ढुल्लू के गुर्गों की इच्छा नहीं हुई तो एक छंटाक कोयला भी नहीं उठने दिया.

केस स्टडी – 4

अंगारपथरा के शेर बहादुर सिंह ने कांटा पहाड़ी कोल डंप में एक सौ टन कोयला का डीओ लगाया था. उनके ट्रक को अंदर घुसने तक नहीं दिया. उन्होंने दूसरी बार डीओ लगाया लेकिन ढुल्लू के गुर्गों का रवैया नहीं बदला.

केस स्टडी – 5

मार्च 2014 चंदेल इंटरप्राइजेज ने कोयला उठाव के लिए दो ट्रक को शताब्दी कोल डंप में भेजा था. फार्म से रंगदारी मांगी गयी. रंगदारी नहीं देने के कारण उनका ट्रक 25 दिनों बाद खाली लौटा.

 

केस स्टडी – 5

अप्रैल 2013 सुमित इंटरप्राइजेज का ट्रक कोयला उठाव के लिए शताब्दी कोल डंप में गया था. वहां कोयला के बदले काला पत्थर ट्रक में लदवा दिया गया. 22 अप्रैल को बरोरा पुलिस ने इस मामले में कई लोगों के खिलाफ केस किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें : जमशेदपुर : कार से खींच कर नाबालिग से दुष्कर्म की कोशिश, आरोपियों को पुलिस ने किया चिन्हित

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button