DhanbadJharkhand

धनबाद : ससुराल में कैद युवक को पुलिस ने कराया रिहा, सास-साले पर पैसे मांगने का आरोप

Dhanbad : जिले के राजगंज में एक युवक को उसके ही ससुराल वालों ने बंदी बना कर रखा था. चार दिनों से युवक ससुराल वालों के कब्जे में था. जिसे कि राजगंज पुलिस ने मुक्त करा लिया है. युवक का नाम मो. एजाज बताया जा रहा है. एजाज बिहार के औरंगाबाद जिला के आजादनगर का रहने वाला है. राजगंज वह अपने ससुराल आया था जहां उसे बंदी बनाकर रखा गया था.

घटना के बारे में राजगंज थानेदार गंगा सागर ओझा ने बताया है कि एजाज को कैद किए जाने की जानकारी मिली थी. सूचना के आधार पर कार्रवाई करते हुए युवक को मुक्त कराया गया. वहीं युवक के परिजनों को राजगंज बुलाया गया है. फिलहाल युवक को थाने में रखा गया है.

इसे भी पढ़ेंःNDTV पर SEBI का एक्शनः प्रणय और राधिका रॉय दो साल के लिए सिक्योरिटीज मार्केट से बैन

परिजनों ने दी कैद होने की सूचना

बिहार के औरंगाबाद जिला के आजादनगर निवासी मो. एजाज को उसके ससुराल में चार दिनों से कैद रखा गया था. जिसके बाद किसी तरह मौका मिलते एजाज ने अपनी मां को फोन किया और सारे मामले की जानकारी दी. परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस से की. पुलिस ने भी मामले में त्वरित कार्रवाई करते हुए युवक को ससुराल वालों के कब्जे से मुक्त कराया.

इसे भी पढ़ेंःकमीशन लेने वाले डॉक्टरों का केवाईसी भरवाता है मेदांता अस्पताल

तलाक देने और शादी में खर्च रुपये लौटाने के लिए बनाया बंधक

एजाज की माने तो शादी में खर्च हुए पैसे लौटाने और पत्नी को तलाक देने के लिए ससुराल वालों ने उसे बंधक बनाया था. साला मकसूद, मंजूर व सास ने उसे एक कमरे में बंद कर दिया और मारपीट की. पत्नी का इलाज कराने के लिए वह 10 हजार रुपये लेकर आया था जिसे आरोपियों ने छीन लिया.

उसे चार दिन तक खाना भी नहीं दिया. सिर्फ पीने को पानी मिला. एजाज ने पुलिस को बताया कि उसकी शादी 13 अगस्त 2015 में मुनिजा खातून से हुई थी. शादी के कुछ दिन बाद से ही पत्नी एवं ससुराल वाले पैसे की मांग करने लगे. पत्नी दो साल रहने के बाद मायके चली आई. इस बीच अक्सर पैसा लौटने एवं पत्नी को तलाक देने का दवाब मिलता रहा.

Related Articles

Back to top button