Crime NewsDhanbadJharkhand

धनबाद पुलिस ने 4 साइबर अपराधी को रंगे हाथ किया गिरफ्तार

विज्ञापन

Dhanbad. धनबाद पुलिस ने शुक्रवार को साइबर अपराध से जुड़े गिरोह के 4 सदस्यों को गिरिफ्तार किया है. जो विभिन्न बैंक और गूगल-पे कस्टमर केयर का प्रतिनिधि बनकर लोगों को चुना लगा रहे थे और साइबर अपराध के जरिए लूटे गए उन पैसों से अपनी महंगी शौक को पूरा किया करते थे. पुलिस ने इनके पास से साइबर अपराध से जुड़े एप्पल का 2 आइफोन, 1 एप्पल का लैपटॉप , 1 इनोवा क्रिस्टा कार, 2 बाइक, 6 महंगे स्मार्टफोन और 5 विभिन्न कंपनियों के एटीएम कार्ड बरामद किया है.

ये भी पढ़ें-गढ़वा: ट्रक की चपेट में आने से बच्चे की मौत, एक गंभीर

धनबाद के सिटी एसपी आर रामकुमार ने बताया कि गुप्त सूचना मिली थी कि जामताड़ा से धनबाद आए कुछ अपराधी साइबर अपराध को अंजाम देने में जुटे हैं. जिसके बाद एक विशेष टीम बनाकर धैया स्थित वृंदावन अपार्टमेंट के कमरा नंबर 4 C में छापेमारी कर चार साइबर अपराधियों को अपराध करते रंगे हाथ पकड़ा, जो धनबाद में किराएदार बनकर धड़ल्ले से साइबर अपराध के जरिए देश के अलग-अलग लोगों को आर्थिक चोट पहुंचाने में जुटे थे. पकड़े गए साइबर अपराधियों में जामताड़ा निवासी शंभूनाथ मंडल, प्रधम मंडल, रोहित कुमार मंडल और गिरिडीह के अभिषेक कुमार मंडल शामिल है.

advt

ये भी पढ़ें- राज्य में 23611 शिक्षकों के पद रिक्त, प्राथमिक स्कूलों में सर्वाधिक 12 हजार पद

उन्होंने बताया कि ये सभी खुद को विभिन्न बेंको का कर्मचारी और गूगल-पे कस्टमर केयर का प्रतिनिधि बताकर लोगों को चुना लगा रहे थे. यही नहीं, ये लोग ई-सिम एवं विशिंग कर साइबर अपराध कर रहे थे. ये गिरोह दो तरह से साइबर ठगी के कारनामे को अंजाम देते थे.

पहला- यह गिरोह टीम विवर/क्विक सपोर्ट सॉफ्टवेयर के जरिये झांसे में फंसे लोगों की सारी आर्थिक जानकारी हासिल कर उनसे ठगी करते थे.

दूसरा- यह गिरोह गूगल विजनेस पेज पर अपना विज्ञापन डालते थे और लोगों को झांसे में लेकर खुद को किसी मोबाइल फोन कंपनी का कर्मचारी बता कर कंपनियों द्वारा भेजे गए क्यूआर कोड अपने वाट्सअप पर मंगाकर ई-सिम कन्वर्ट कर लोगों के अकाउंट से पैसा गायब कर देते थे.

adv
advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button