DhanbadJharkhand

धनबाद : फिर से आंदोलन के मूड में पारा शिक्षक, लगाये बीजेपी हाय-हाय के नारे

Dhanbad: पारा शिक्षकों ने एक बार फिर से आंदोलन का शंखनाद कर दिया है. रविवार को एकीकृत पारा शिक्षक संघर्ष मोर्चा ने राज्यभर में आक्रोश रैली सह न्याय यात्रा निकाली. धनबाद में गोल्फ ग्राउंड से रैली शुरू होकर मिश्रित भवन, सिटी सेंटर, उपायुक्त आवास, कोर्ट मोड़ होते हुए रणधीर वर्मा चौक पहुंचकर धरना में तब्दील हो गयी.

Jharkhand Rai

स्थायीयता के मुद्दे पर सरकार द्वारा नियमावली गठित करने में विलंब के विरोध में धरने पर बैठे पारा शिक्षकों ने बीजेपी हाय-हाय के नारे लगाये.संघ के जिला सचिव मो. शेख सिद्दिकी ने कहा कि स्थायीकरण के मुद्दे पर नियमावली बनाने को लेकर 17 जनवरी 2019 को सरकार के साथ समझौता वार्ता हुई थी.

सरकार की ओर से नियमावली बनाने में 90 दिन का समय मांगा गया था. लेकिन 180 दिन बीत जाने के बाद भी सरकार की ओर से नियमावली पर कोई पहल नहीं की गयी.

साथ ही  मो. शेख सिद्दिकी ने कहा कि रघुवर सरकार पारा शिक्षकों के साथ वादाखिलाफी कर रही है. हम पारा शिक्षकों को सरकार आश्वासन और वादा देकर छोड़ देती है और अपने वादे से मुकर जाती है. जिले में पारा शिक्षकों की संख्या 2869 है.

Samford

इसे भी पढ़ें – धनबाद : कुकुरमुत्तों की तरह उग आये हैं गर्ल्स हॉस्टल, महिला सुरक्षा मानकों पर खरे नहीं उतरते

पारा शिक्षक आर्थिक तंगी के शिकार

जिला सचिव मो. शेख सिद्दिकी ने कहा कि पारा शिक्षक रोज आर्थिक तंगी के शिकार होकर किसी न किसी रूप में मर रहे हैं और सरकार हमारा शोषण करती जा रही है. अब यह बर्दाश्त नहीं होगा.

अब सरकार के साथ आर पार की लड़ाई लड़ी जायेगी. 5 सितंबर तक नियमावली गठित नहीं होने पर रांची में उग्र आंदोलन किया जायेगा. राज्यभर के 65 हजार पारा शिक्षक आंदोलन में शामिल होंगे.

इसे भी पढ़ें – बिना टेंडर के ही बोकारो डीसी आवास में बन गया 40 लाख का गौशाला, सचिव ने कहा जांच और कार्रवाई होगी

पारा शिक्षक अब जातीय जनगणना करेंगे

पारा शिक्षक अब स्कूलों में पढ़ाने के बदले जातीय जनगणना करेंगे. झारखंड सरकार पिछड़ा वर्ग सर्वेक्षण कर रही है.  धनबाद, झरिया और बाघमारा के 60 पारा शिक्षकों को सर्वे कार्य में लगाया गया है. पारा शिक्षक अब अगले आदेश तक जातीय जनगणना करेंगे.

डीएसई इंदूभूषण सिंह ने बताया कि यह भारत सरकार की योजना है, इसे हर हाल में सभी को पूरा करना है. एनेक्सचर-एक व एनेक्सचर-दो के परिवारों का सर्वेक्षण कर सर्वे रिपोर्ट सौंपनी है. सभी धर्मों की पिछड़ी जातियों के सर्वे में परिवार के सभी सदस्यों की शैक्षणिक योग्यता व पेशा से संबंधित रिपोर्ट तैयार करनी है.

वहीं नगर आयुक्त चंद्रमोहन कश्यप ने जातीय जनगणना को लेकर सभी को आवश्यक निर्देश दिया. कहा है कि कहीं भी कोई समस्या हो तो सीधे निगम से संपर्क कर सकते हैं. साथ ही कहा कि सभी धर्मों की पिछड़ी जातियों के सर्वे के आधार पर उनकी आबादी के अनुरूप इन्हें आरक्षण सहित अन्य सुविधायें मिलेंगी.

इसे भी पढ़ें – पार्षद नहीं बनने देना चाहते वार्ड कमिटी, बना रहे वोटर लिस्ट में सुधार का बहाना

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: