DhanbadJharkhand

धनबाद मिशन ऑफ चैरिटी से भी एक बच्चा लापता, बाल संरक्षण आयोग करेगा जांच

Dhanbad : रांची निर्मल हृदय में नवजात बच्चों को बेचने का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा है कि धनबाद मिशन ऑफ चैरिटी से भी एक बच्चे के लापता होने की बात सामने आयी  है. मामला धनबाद के मेमको मोड़ स्थित मिशन ऑफ़ चेरिटी का है. जहां गुरुवार को जांच के लिए पहुंची बाल संरक्षण आयोग की टीम ने मिशन ऑफ चैरिटी के रजिस्टर में गड़बड़ी पकड़ी. रजिस्टर में नामित एक बच्चा कम मिला. मिशन ऑफ चैरिटी का कहना है कि बच्चे को रांची की बालगृह संस्था को सौंपा गया है. हालांकि मिशन ऑफ चैरिटी के पास से बच्चे को रांची भेजने की कोई रिसिविंग नहीं मिली है.

Jharkhand Rai

दूसरी ओर मिशनरी में मौजूद सिस्टर का कहना है कि उस बच्चे को उसके परिवार को सौंप दिया गया था. वहीं आयोग की अध्यक्ष आरती कुजूर ने पूरे मामले को गंभीरता से लेते हुए एक जांच टीम गठित की है. जांच टीम पता लगा रही है कि वास्तव में बच्चा रांची बालगृह को दिया गया है या नहीं.

इसे भी पढ़ेंःमीडिया पर संपूर्ण नियंत्रण का इरादा अभिव्यक्ति की आजादी पर पहरा

संस्था में फिलहाल 18 दिव्यांग बच्चे हैं, जिनमें 14 लड़कियां हैं

धनबाद के मेमको मोड़ के हवाई पट्टी स्थित मिशन ऑफ चैरिटी पहुंची बाल संरक्षण आयोग की टीम द्वारा वर्ष-2011- 2012 की रजिस्टर की जांच की गयी तो उसमे एक बच्चा गायब मिला. टीम संस्था के हर वार्ड में जाकर बच्चों से मिली और उनका हालचाल लिया. संस्था में फिलहाल 18 दिव्यांग बच्चे हैं, जिनमें से 14 लड़कियां हैं.

Samford

अध्यक्ष ने संस्था को लड़के-लड़कियों को अलग-अलग वार्ड में रखने का निर्देश दिया है. साथ ही पूरे कैंपस में सीसीटीवी कैमरे लगाने का भी निर्देश जारी कर दिया है. टीम ने किचन और बाथरूम का भी जायजा लिया. किचन में रखे फल, सब्जी और पानी तक की जांच की. पैकेट वाले खाने-पीने की चीजों की एक्सपायरी डेट की भी पड़ताल की गयी

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: