न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद : बिजली का 44 करोड़ बकाया रखनेवाले ‘लापता’

1,482

Vikash pandey

Dhanbad: एक तरफ डीवीसी 3500 करोड़ रुपये बकाये का भुगतान नहीं होने के कारण तबाह कर देने की हद तक बिजली कटौती कर रहा है. वहीं, उपभोक्ताओं से बकाया वसूली में झारखंड बिजली वितरण निगम लिमिटेड में अंधेरगर्दी मची है. बिजली विभाग के दस्तावेज के मुताबिक 44 करोड़ बकाया रखनेवाले उपभोक्ता लापता हैं. धनबाद के सिर्फ 4 मंडलों के 885 उपभोक्ताओं का 44 करोड़ रुपया बकाया है. हैरान करनेवाली बात है कि उन उपभोक्ताओं का लोकेशन तक बिजली विभाग ट्रेस नहीं कर पाया है. जबकि सालों से ये लोग बिजली जला रहे हैं. पदाधिकारियों की बदली और पुराने मिस्त्रियों के सेवानिवृत्त होने के बाद से इन उपभोक्ताओं की कोई खोज खबर विभाग ने नहीं ली है. ऐसे सैकड़ों लोगों का प्रति व्यक्ति बिजली बिल का बकाया 50 हजार से अधिक हो चुका है. इनमें निरसा डिवीजन के 115, झरिया में 279, धनबाद में 312 और गोविन्दपुर डिवीजन में 180 उपभोक्ता हैं. इनका कोई पता तक बिजली विभाग को पास उपलब्ध नहीं है.

485 उपभोक्ताओं का 12 महीने या उससे अधिक का बिल बकाया

बिजली विभाग का 31/10/2018 तक 12 महीने या उससे अधिक समय से बकाया रखनेवालों की संख्या भी 485 है. इनमें धनबाद के 140, निरसा के 58, गोविन्दपुर के 66 और झरिया के 221 उपभोक्ता हैं. बिजली विभाग ने इन पर कार्रवाई भी शुरू कर दी है. इनको चिह्नित करके बकाया क्लियर करवाया जा रहा है. साथ ही भुगतान नहीं करनेवालों की शिकायत सुन कर उसका समाधान करने की प्रक्रिया भी शुरू कर दी गई है.

लोकेशन ट्रेस करके बकाया क्लियर कराने की कोशिश : जीएम

silk_park

नरेश प्रसाद (महाप्रबंधक सह मुख्य अभियंता, बिजली आपूर्ति क्षेत्र, धनबाद) ने बताया कि वैसे उपभोक्ता जिनका 50 हजार रुपये से अधिक बकाया है उनसे बकाया क्लियर करवाया जायेगा. अन्यथा उनका बिजली का कनेक्शन काट दिया जायेगा. साथ ही बताया कि ज्यादतर लोगों का भुगतान लोकेशन ट्रेस नहीं होने की वजह से नहीं हो पा रहा है. कई पुराने उपभोक्ताओं का पता लगाने में परेशानी हो रही है. इसके लिये 26 नवंबर को एक बैठक में फैसला लिया गया कि बिजली विभाग उस क्षेत्र के ऊर्जा मित्रों के साथ वहां के पुराने मिस्त्री जो सेवानिवृत्त हो चुके हैं या कार्यरत भी हैं उनको साथ में लेकर उपभोक्ताओं का पता लगाया जायेगा. बदले में पुराने मिस्त्रियों को भुगतान भी किया जायेगा. इसके अलावा वैसे उपभोक्ता जिनका 12 महीने या उससे अधिक बकाया है उनसे बकाया वसूल किया जा रहा है और भुगतान नहीं करने वाले का कनेक्शन काटा भी जा रहा है.

बिजली नहीं रहने से धनबाद के लोग त्रस्त

डीवीसी की बकाया राशि का जेबीवीएनएल के भुगतान नहीं करने से नाराज डीवीसी ने एक बार फिर मंगलवार से बिजली कटौती शुरू कर दी है. जिससे धनबाद के लोग त्रस्त हैं. शहर में सात घंटे की बिजली कटौती की गई. अहले सुबह 5:30 से ही बिजली कटने लगी. सुबह 5:30 से सात बजे तक, 10 बजे से 11:30 बजे इसी तरह से दिन भर कई बार बिजली काटी गयी. इस वजह से कई घरों में पानी भी नहीं भरा जा सका. अंधरे की वजह से बच्चों की पढ़ाई भी बाधित रही. दुकानों में लोगों ने मोमबत्ती और इमरजेंसी लाइट जला कर काम किया.

इसे भी पढ़ें – विवादों से घिरे पाकुड़ डीसी दिलीप झा का हुआ तबादला, जेसीईसीई के बने एग्जाम कंट्रोलर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: