Corona_UpdatesDhanbad

#Dhanbad: लॉकडाउन के कारण प्रभावित हुआ दूध का कारोबार, कीमत में आयी भारी गिरावट

Kumar Kamesh

Dhanbad: कोरोना महामारी से उत्पन्न संकट के कारण दूध का का कारोबार बुरी तरह प्रभावित हुआ है. मिठाई की दुकानों के बंद रहने के कारण उत्पादन के हिसाब से इसकी बिक्री नहीं हो पा रही है. दूध की खपत कम होने के कारण इसकी कीमत में भी काफी गिरावट आयी है.

दूध की कीमत में कमी आने के बावजूद इसकी मांग नहीं बढ़ पा रही है, जिससे दूध विक्रेताओं को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है.

इसे भी पढ़ेंःदुनिया में सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित अमेरिका मेंः आंकड़ा 10 लाख के पार, 58,000 लोगों की गयी जान

कीमत कम होने के बाद भी नहीं बढ़ रही दूध की मांग

जिले में ज्यादातर छोटे दूध के कारोबारी हैं, जो आसपास की कालोनियों और मिठाई की दुकानों में दूध की आपूर्ति करते हैं. दूध का कारोबार करने वाले लोगों यहीं दो मुख्य ग्राहक हैं. लॉकडाउन के कारण जिले की सभी मिठाई की दुकानें बंद हैं जिससे इनके दूध की खपत नहीं हो पा रही है.

मवेशियों को पालने में हो रही परेशानी

इसलिए अब ये लोग दूध के दामों में कमी कर बेच रहे हैं, फिर भी मांग नहीं बढ़ी है. पहले दूध की कीमत 38 से 42 रुपये प्रति लीटर थी. अब यह घटकर 28 से 26 रुपये प्रति लीटर हो गयी है.

वहीं पहले दही की कीमत सौ रुपये प्रतिकिलो थी. अब यह घटकर 50 रुपये प्रतिकिलो हो गया है. दूध विक्रेताओं का कहना है कि 50 रुपये किलो भी दही की बिक्री नहीं हो पा रही है. इसलिए लोग बचे हुए दूध से भी दही नहीं जमा रहे हैं.

adv

मवेशियों का रख-रखाव हो रहा है मुश्किल

दाम कम किये जाने के मामले में दूध कारोबारी भीम यादव बताते हैं कि लॉकडाउन के कारण उन्हें काफी नुकसान उठाना पड़ रहा है. मवेशियों का खर्च और रख-रखाव का खर्च भी काफी अधिक बढ़ गया है. मवेशियों को दिया जाने वाला चारा बाजार में आसानी से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है.

जिस कारण उन्हें महंगे दामों पर चारा, भूसा, चोकर खरीदना पड़ रहा है. अब स्थिति ऐसी बन आयी है कि इनलोग अपने खाना की  व्यवस्था सही ढंग से नहीं कर पा रहे क्योंकि आमदनी घट गयी है लेकिन खर्चे बहुत बढ़ गये है. यही स्थिति रही तो मवेशियों को कुछ दिनों बाद भूखे रखना पड़ सकता है क्योंकि महाजन भी अब उधार नहीं दे रहा है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार में बढ़ रहा कोरोना का कहर- 20 नये मामले, कुल केस 366

दूध उत्पादकों की मांग- सहकारिता विभाग करें खरीदारी

फिलहाल छोटे कारोबारी इस मामले में हेल्पलाइन नंबर के माध्यम से मुख्यमंत्री से अपनी बात रखने की बात कह रहे हैं क्योंकि दूध की मांग नहीं रहने से उन्हें  काफी नुकसान हो रहा है.

वहीं दूध का कारोबार करने वाले अविनाश यादव कहते हैं कि जब तक लॉकडाउन के कारण हमलोगों का कारोबार प्रभावित हो रहा है और जब तक मिठाई की दुकानें खुल नहीं जाती, तब तक हमारे यहां से उत्पादित दूध सरकारी सहकारिता विभाग दूध की खरीदारी करे जिससे हमलोगों को लाभ मिल सके.

इसे भी पढ़ेंःरांची: कब्रिस्तान से युवक का सिर कुचला शव बरामद, पहचान कराने में जुटी पुलिस

advt
Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: