1st LeadDhanbadJharkhand

धनबाद : JITA और DVC अधिकारियों के बीच एमएसएमई उद्योगों को बिजली आपूर्ति को लेकर बैठक

Dhanbad : आज DVC के कांड्रा, गोविंदपुर स्थित सब स्टेशन में डीवीसी और झारखंड इंडस्ट्रीज एंड ट्रेड एसोसिएशन के पदाधिकारियों एवं उद्योगपतियों के साथ बैठक हुई. बैठक में JITA महासचिव राजीव शर्मा ने डीवीसी द्वारा एमएसएमई उद्योगों को बिजली उपलब्ध कराने की पहल का धन्यवाद करते हुए उनके समक्ष कुछ मांगों को रखा. जिनमें कांड्रा, गोविंदपुर एवं देवली क्षेत्र में एमएसएमई को  33KV एवं 11केवी के माध्यम से बिजली की आपूर्ति की मांग प्रमुख रूप से रखा गया. इस पर DVC की तरफ से रांची से आए पुनीत कुमार जैन, अधीक्षण अभियंता(विद्युत) ने कनेक्शन लेने हेतु विस्तार से जानकारी दी. जिसमें 33KV के लिए कम से कम 350 KVA लोड और 11 KV के लिए कम से कम 100 KVA लोड होना चाहिए बताया. कहा,  इसका प्रति यूनिट चार्ज रु 3.75 और फिक्स चार्ज 350/- प्रति केवीए तथा 7.70 लाख प्रति 100 केवीए सिक्योरिटी चार्ज की जानकारी दी. इसके अतिरिक्त मीटरिंग सिस्टम से ट्रांसफार्मर की व्यवस्था कंज्यूमर करेगा.

 

जीटा महासचिव ने शहरी क्षेत्रों में बिजली की खराब स्थिति पर सुझाव दिया कि धनबाद के अन्य क्षेत्रों में कमर्शियल एवं आवासीय क्षेत्रों 440v के ग्राहकों को भी बिजली उपलब्ध कराने हेतु DVC पहल करे, इससे यहां के वासियों को एक नई व्यवस्था मिलेगी और बिजली की गुणवत्ता भी सुधरेगी. जिसपर अधीक्षण अभियंता पुनीत कुमार जैन एवं अधीक्षण अभियंता (पुटकी) सुबीर कुमार दास ने इस प्रपोजल को वरीय पदाधिकारियों को भेजने का आश्वासन दिया.

जीटा संगठन की ओर से उन्हें यह भी आश्वासन दिया गया कि जल्द ही संगठन में चर्चा कर DVC को सूचित किया जाएगा और कांड्रा एवं गोविंदपुर के अन्य क्षेत्रों में DVC से सामूहिक  कनेक्शन हेतु APLLY किया जाएगा.

Catalyst IAS
ram janam hospital

बैठक में JITA KE संरक्षक के० एन ० मित्तल, DVC कांड्रा के अधीक्षण अभियंता आतिश आनंद, एन० के० झा, कार्यपालक अभियंता राजेश कुमार, सहायक अभियंता, नवल अग्रवाल, हेमंत गुप्ता एवं अन्य व्यवसाई उपस्थित हुए.

 

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

इसे भी पढ़ें : झारखंड देश का पहला राज्य जहां पेंशन यूनिवर्सल हुआ : हेमंत सोरेन

Related Articles

Back to top button