DhanbadJharkhand

#Dhanbad: जालान अस्पताल पर मरीज की मौत के बाद भी दो दिन रखकर पैसे ऐंठने का आरोप, हंगामा

Dhanbad : जालान अस्पताल में रविवार की शाम मरीज के परिजनों ने जमकर हंगामा किया. परिजनों ने कहा कि अस्पताल प्रबंधन इलाज के नाम पर हम लोगों को बेवकूफ बनाता रहा.

Sanjeevani

इस दौरान अस्पताल प्रबंधन ने दो लाख रुपये से ज्यादा ऐंठ लिये. रविवार को हमें बताया गया कि मरीज की मौत हो गयी है.

MDLM

इस संबंध में बरमसिया के रहने वाले भोला सिंह ने बताया कि छह मार्च को उन्होंने अपने पिता रवींद्र सिंह को गंभीर हालत में भर्ती कराया गया. उन्हें ब्रेन हेंबरेज हुआ था.

इसे भी पढ़ें : हाल दुमका के जरमुंडी का: खटिया पर लादकर ग्रामीण ले जाते हैं मरीज, आजादी के बाद भी नहीं हुआ विकास

जांच और दवाओं के नाम रुपये ऐंठने का लगाया आरोप

#Dhanbad: जालान अस्पताल पर मरीज की मौत के बाद भी दो दिन रखकर पैसे ऐंठने का आरोप, हंगामाभोला सिंह ने बताया कि छह फरवरी से अब तक जांच और दवाओं के नाम पर इस दौरान उनसे रुपये ऐंठता रहा. उन्होंने इन दस दिनों में दो लाख रुपये से ज्यादा खर्च कर दिये लेकिन सुधार नहीं हुआ.

न ही अस्पताल प्रबंधन ने उन्हें रेफर किया. भोला सिंह ने बताया कि उनके पिता की मौत दो दिन पहले ही हो गयी थी. लेकिन रुपये ऐंठने के कारण यह बात अस्पताल प्रबंधन ने उनसे छुपा ली.

इसे भी पढ़ें : #Corona के खतरे को देखते हुए IIT-ISM ने 31 मार्च तक बंद की सभी कक्षाएं, विदेशी छात्रों के प्रवेश पर रोक

परिजनों के आक्रोश के कारण भागे डॉक्टर

भोला सिंह ने बताया कि जानकारी मांगने पर अस्पताल प्रबंधन की ओर से उन्हें सही जानकारी नहीं दी जा रही थी. सिर्फ उनसे रुपये मांगे जाते थे.

उन्होंने कहा कि डॉक्टर सिर्फ इतना बताते थे कि मरीज की हालत गंभीर है लेकिन वह ठीक हो जायेगा. वे लोग इसी उम्मीद के साथ रुपये खर्च करते रहे लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ.

रविवार को डॉक्टर उन लोगों को यह कहकर चला गया कि अब उनके पिता इस दुनिया में नहीं हैं. इसके बाद वह डॉक्टर भी नहीं मिले. उन्होंने बताया कि लोगों के आक्रोश को देखते हुए वे भाग खड़े हुए.

भोला सिंह ने इस मामले में अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है.

इसे भी पढ़ें : कोरोना :  एक सप्ताह में ढाई सौ से अधिक यात्रियों ने गिरिडीह में कैंसिल कराया रेलवे का आरक्षित टिकट

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button