Crime NewsDhanbadLead News

धनबाद : अवैध खदान धंसी, दो-तीन लोगों के दबे होने की आशंका

Dhanbad: निरसा थाना क्षेत्र के बरईगढ़ा से सोनवाद जाने के रास्ते में चापापुर वन कोलियरी की बंद खदान में अवैध खनन के दौरान लगभग 40 से 50 फीट के दायरे में खनन स्थल का मुहाना एवं आसपास का इलाका जमींदोज हो गया.
स्थानीय लोगों के अनुसार दो से तीन व्यक्तियों के दबे होने की आशंका है. अवैध खनन स्थान के धसान की चपेट में सोनवाद जाने का बीच रास्ता का भी हिस्सा आ गया है तथा कई स्थानों पर दरारें पड़ गयी हैं. घटना के बाद सोनबाद गांव के लोगों में दहशत व्याप्त है.

इसे भी पढ़ें:पुनदाग रेलवे क्रॉसिंग के पास से एक अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार, उग्रवादियों से हो सकता है संबंध

यह है मामला

जानकारी के अनुसार, चापापुर वन कोलियरी कई वर्ष पूर्व ही बंद हो चुकी है. बंद खदान की बगल में जंगल एवं झाड़ियों के बीच कई कोयला तस्कर अवैध मुहाना बना कर कोयले का खनन करते हैं. निरसा एवं गोविंदपुर थाना क्षेत्र का सीमावर्ती इलाका होने का फायदा कोयला चोर उठा रहे हैं.

गोविंदपुर थाना क्षेत्र के कोयला चोर उक्त स्थान पर आकर कोयले की कटाई करते हैं तथा गोविंदपुर थाना क्षेत्र में स्थित भट्ठों में खपा देते हैं. अवैध उत्खनन क्षेत्र निरसा थाना के अंदर पड़ता है, वहीं भट्ठा गोविंदपुर थाना क्षेत्र में पड़ता है. इसका कोयला चोर आसानी से फायदा उठाते हैं. उक्त स्थान पर कोयला चोरों द्वारा दर्जनों अवैध खनन स्थल बना कर धड़ल्ले से कोयला चोरी की जाती है.

स्थानीय लोगों के अनुसार प्रतिदिन की भांति अवैध कोयला निकाल रहे थे. तभी संध्या में अचानक तेज आवाज के साथ लगभग 40 से 50 फीट के दायरे में अवैध खनन स्थल जमींदोज हो गया. अवैध खनन के जमींदोज होने के दौरान ऊपर में बड़े-बड़े पेड़ भी अपने स्थान से खिसककर काफी नीचे जा चुके हैं.

इसे भी पढ़ें:दिनदहाड़े पिस्तौल का भय दिखाकर बाइक, पैसा और मोबाइल लूटा

अचानक तेज आवाज के साथ भूधसान होने के कारण खदान के अंदर काम कर रहे मजदूर आनन-फानन में बाहर निकले. कई मजदूरों को हल्की चोटें भी आयी हैं. वहीं तीन लोगों के दबे होने की बातें कही जा रही है. हालांकि इसकी पुष्टि नहीं हो पा रही है.

अवैध मुहाने पर मिली चप्पल एवं बोतल

अवैध खनन स्थल के मुहाने पर बोतल, चप्पल, मफलर व गमछा इत्यादि मिलने से यह स्पष्ट संकेत मिलता है कि कोयला कटाई करने वाले मजदूर खदान के अंदर उतरे थे. कोयला कटाई के दौरान ही अवैध खदान जमींदोज हो गयी.
भूधसान होने के कारण खदान के अंदर काम कर रहे ज्यादातर मजदूर तो बाहर निकलने में सफल रहे. परंतु सूत्रों के अनुसार 2 से 3 मजदूर खदान में ही फंस गये. हालांकि कोयला तस्करों द्वारा खदान में फंसे मजदूरों को भी निकालना का प्रयास जारी है.

Related Articles

Back to top button