Dhanbad

धनबादः राज्य सरकार के आदेश के बावजूद नहीं थम रहा अवैध कोयले का कारोबार

Dhanbad: कोयलांचल में कोयले का अवैध धंधा जारी है. धनबाद के कतरास थाना अंतर्गत विभिन्न कोलियरियों से कोयला माफिया प्रतिदिन भारी मात्रा में कोयला चोरों से करवा रहे हैं. कोयले की अवैध निकासी कतरास के कई कोलियरियों से की जा रही है.

इन कोलियरी में आकाशकीनारी, ईस्ट कतरास, स्लानपुर, राम कनाली , गोविंदपुर और ब्लॉक 4 के खदान शामिल है. इन परियोजनाओं से रोजाना शाम 5 बजे से खुलेआम अवैध कोयले की ढुलाई शुरू हो जाती है. कोयले की अवैध ढुलाई में मोटर साइकिल,स्कूटर,पिकअप वैन, टाटा मैजिक ये सभी गाड़ियों का धड़ल्ले से इस्तेमाल होता है.

advt

इसे भी पढ़ेंःनक्सलियों ने लगाई जन अदालत, मुखबिर के आरोप में की तीन लोगों की पिटाई

शाम 5 बजे से सुबह 9 बजे तक अवैध ढुलाई

शाम 5:00 बजे से सुबह 9:00 बजे तक कतरास राजगंज पथ से बेधड़क अवैध कोयले की ढुलाई की जाती है. अवैध कोयले को लेकर सड़को पर ये गाड़ियां ऐसे चलती है, मानो इनके पास जिला प्रशासन द्वारा दिया गया कोई परमिशन हो.

कुछ कोयला चोरों ने बताया कि ये अवैध कोयले का कारोबार डीके चौधरी एंड कंपनी का है जिसे हमलोग अवैध डिपो में गिरा देते हैं. कोयला माफिया कतरास के विभिन्न कोलियरियों में सैकड़ो की संख्या में कोयला चोरों को लगा कर कोयले की अवैध निकासी करते हैं, जिसे गिरिडीह जिला में पड़ने वाले तिलैया मनियाडीह स्तिथ भठ्ठे पर गिराया जाता है.

इसे भी पढ़ेंःबिहार: कोरोना से 6 और मरीजों की मौत, मामले बढ़कर 11 हजार के करीब

राज्य सरकार बरत रही सख्ती- गुरमीत सिंह

वही इस अवैध कोयले के कारोबार को लेकर 20 सूत्री उपाध्यक्ष गुरमीत सिंह ने कहा कि राज्य सरकार अवैध धंधेबाजों पर अंकुश लगाने का काम कर रही है. गड़बड़ियां करने वाले अधिकारियों पर त्वरित कार्रवाई की जा रही है, ताकि अवैध कारोबार पर पूरी तरह अंकुश लग सके.

साथ ही गुरमीत सिंह ने राज्य सरकार से यह मांग की है कि जो लोग राज्य की संपत्ति को खुलेआम नुकसान पहुंचा रहे हैं, ऐसे धंधेबाजों को चिन्हित कर जेल की सलाखों के पीछे डाले. साथ ही इस अवैध कारोबार में जुड़े अधिकारियों पर भी कड़ी से कड़ी कार्रवाई करें.

लेकिन जिस तरह से कोयला माफिया खुलेआम अवैध कारोबार कर रहे हैं, वो सरकार की ओर से की जानेवाली कार्रवाई को ठेंगा दिखाने जैसा ही है.

इसे भी पढ़ेंःJamtara: सदर अस्पताल में पीपीपी मोड के संस्थानों में लापरवाही, डायलिसिस केंद्र में भी डॉक्टर नहीं

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: