न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

#Dhanbad: हाइकोर्ट ने DAV प्लस टू मैदान के बीच से सड़क निर्माण पर लगायी रोक

रेलवे को 30 वर्षों के लिए जमीन लीज पर देने को कहा

650

Dhanbad : पुराना बाजार डीएवी प्लस टू स्कूल मैदान के बीच से सड़क निर्माण पर हाईकोर्ट ने रोक लगा दी है. साथ ही हाईकोर्ट ने रेलवे को स्कूल मैदान की जमीन को 30 वर्षों के लिए लीज पर देने का आदेश दिया है.

हाईकोर्ट ने बुधवार को यह फैसला समाजसेवी रंजीत परमार द्वारा दायर जनहित याचिका की सुनवाई करते हुए दिया है.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

रेलवे की ओर से धनबाद रेलवे स्टेशन के दक्षिणी छोर को जोड़ने के लिए डीएवी स्कूल मैदान के बीच से सड़क का निर्माण किया जा रहा था.

रंजीत परमान ने इसी मामले को लेकर हाईकोर्ट में जनहित याचिका दायर की थी. उन्होंने याचिका में कहा था कि स्कूल मैदान के बीच से सड़क निर्माण होने से बच्चों का मैदान छिन जायेगा और स्कूल की मान्यता पर संकट उत्पन्न हो जायेगा.

इसे भी पढ़ें : नक्सल प्रभावित अरमो में 22 लाख की लागत से बने बहुउद्देशीय भवन में सहकारी समिति चला रही है स्कूल

16 जनवरी को आरपीएफ ने किया था लाठीचार्ज

स्कूल मैदान के बीच से सड़क निर्माण होने के खिलाफ काफी दिनों से आंदोलन चल रहा था. समाजसेवी रंजीत परमार के नेतृत्व में लोग अनिश्चितकालीन धरने पर बैठे थे.

समय-समय पर डीएवी प्लसू टू स्कूल के बच्चों ने भी धरना में शामिल होकर मैदान के बीच से सड़क निर्माण का विरोध किया था.

Sport House

16 जनवरी को आरपीएफ ने धरना दे रहे स्कूल के बच्चे व अन्य को हटाकर सड़क निर्माण की कोशिश की. इस दौरान आरपीएफ की ओर से लाठीचार्ज भी किया गया.

Related Posts

#Giridih: 16 मौतों के बाद पीएमसीएच से चिकित्सकों की टीम प्रभावित गांवों में पहुंची, स्वास्थ्य जांच की

चिकित्सकों की टीम ने प्रभावित गांवों के ग्रामीणों के ब्लड सैंपल लिये

आरपीएफ पर सड़क निर्माण का विरोध कर रहे बच्चों पर भी लाठीचार्ज करने का आरोप लगा. इस मामले की जमकर निंदा भी की गयी.

इसे भी पढ़ें : #Ranchi: सदर अस्पताल में दो साल बाद भी तैयार नहीं हो सका डायलिसिस सेंटर

आंदोलनकारियों ने हाईकोर्ट के फैसले पर जतायी खुशी

सड़क निर्माण के विरोध में अनिश्चितकाल के लिए धरने पर बैठे लोगों ने हाईकोर्ट के इस फैसले पर खुशी जाहिर की और रंग-अबीर लगाकर अपनी प्रसन्नता का इजहार किया.

इस दौरान रंजीत परमार ने कहा कि यह सत्य की जीत हुई है. स्कूल मैदान के बीच से सड़क निर्माण होने से बच्चों का मैदान छिन जाता और स्कूल की मान्यता पर भी संकट मंडराने लगता.

हाईकोर्ट ने बच्चों के भविष्य को देखते हुए यह फैसला सुनाया है.

इसे भी पढ़ें : #Jharkhand: ज्वाइनिंग के 7 महीने बाद भी नहीं मिल सका है नवनियुक्त प्राथमिक शिक्षकों को वेतन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like