DhanbadJharkhand

#Dhanbad: जिम संचालकों ने सरकार से जिम चालू करने की लगायी गुहार, कहा – बढ़ रही है बैंकों की किश्त, माली हालत हो रही खराब

विज्ञापन

Dhanbad : वैश्विक महामारी कोरोना से जंग में लॉकडाउन के दो माह बाद सरकार द्वारा जिस तरह दुकानदारों को छूट दी जा रही है, उसी तरह धनबाद के जिम संचालकों ने बैठक कर सरकार से जिम चालू करने की मांग की है.

जिम संचालकों का कहना है कि दो माह से अधिक होने को है. इस लॉकडाउन के कारण जिम पूरी तरह बंद है लेकिन इस बंदी में भी जिम हाउस का किराया लग रहा है.

इसे भी पढ़ें – #Latehar: सुर्खियों में रही है डोंकी पंचायत, जहां से आया है कथित भूख से मौत का मामला

advt

लोन लेकर खोले हैं जिम, खराब हो रही है माली हालत

यही नहीं, ट्रेनरों का वेतन व अन्य रख रखाव पर भी खर्च लग रहा है. ऐसे में बिना किसी आमदनी के इसकी भरपाई करना बहुत ही मुश्किल होता जा रहा है.

संचालकों ने यह भी कहा कि अब तो घर चलाना भी काफी मुश्किल होता जा रहा है क्योंकि हमाराी रोजी रोटी इस जिम पर ही निर्भर है. कोई दूसरा वैकल्पिक रास्ता नहीं है.

जिम संचालक बिना जिम में क्लास कराये लड़कों से पैसे भी नही मांग सकते. जिसकी वजह से बैंकों की किश्त भी बढ़ती जा रही है. क्योंकि कई जिम बैंकों से लोन लेकर खोले गये हैं.

जो बैंक से लोन लेकर जिम खोले हैं उनकी माली स्थिति इस लॉकडाउन के कारण काफी खराब होती जा रही है.

इसे भी पढ़ें – #Corona: 22 मई को हजारीबाग के 7 लोगों समेत कुल 15 नये कोरोना पॉजिटिव मरीज मिले, झारखंड में संक्रमण के केस हुए 323

बैंकों ने कहा है – हर हाल में देनी होगी किस्त

उन्होंने यह भी कहा सरकार ने कहा था कि बैंक तीन महीने के लोन की किस्त नहीं लेगा. लेकिन ऐसा कुछ नहीं है. बैंकों ने कहा कि हर हाल में किश्त देनी पड़ेगी.

छूट सिर्फ यह है कि फिलहाल तीन महीने किस्त नहीं देनी है. इससे क्या फायदा होगा. लोन लेकर व्यापार करने वालों को. इसलिए हम सभी जिम संचालक राज्य सरकार से ये आग्रह करते हैं कि हमलोगों को जिम खोलने का आदेश दिया जाये.

इस बैठक में आयरन जिम, रॉयल जिम, अपोलो जिम, जिम टाउन, शेप एंड शाइन, व्यायामशाला, हार्ड कोर जिम तथा अन्य जिम संचालक उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें – #Giridih: 6 साल की बच्ची के साथ 15 साल के किशोर ने किया दुष्कर्म, चार दिनों बाद होश में आयी पीड़िता

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
Close