DhanbadTop Story

#Dhanbad: बाघमारा विधायक ढुल्लू महतो से मांगी गयी पांच करोड़ की रंगदारी

Dhanbad: बाघमारा के नवनिर्वाचित विधायक ढुल्लू महतो से पांच करोड़ की रंगदारी मांगी गयी है. विधायक के मोबाइल पर फोन कर पांच करोड़ रुपये की रंगदारी मांगी गई है. और नहीं देने पर जान मारने की धमकी दी गई है.

रंगदारी मांगने के बाद विधायक ढुल्लू महतो ने बरोरा थाने में इसकी लिखित शिकायत देकर पुलिस से कारवाई की मांग की है. रंगदारी मांगने की बात सामने आने के बाद पुलिस मामले की जांच में जुट गई है और आरोपियों के गिरफ्तारी में लगी हुई है.

इसे भी पढ़ेंः#CAA_NRC पर BJP MLA के बिगड़ैल बोल, कहा- विरोध कर रहे लोगों का एक घंटे में हो सकता है सफाया

क्या है मामला

मिली जानकारी के अनुसार, मंगलवार शाम करीब 4:37 बजे विधायक ढुल्लू महतो के मोबाइल पर इरशाद नामक व्यक्ति ने फोन किया. उसने विधायक से पांच करोड़ रुपये रंगदारी की मांग की.

इसे भी पढ़ेंः#HemantSoren ने राज्यपाल से मिलकर सरकार बनाने का दावा पेश किया, 29 को लेंगे शपथ

औऱ रुपये नहीं देने पर जान से मारने की धमकी दी. इसके बाद दोबारा पांच मिनट बाद ही 4 :43 बजे फोन कर कहा कि रुपया नहीं दिया और पुलिस को खबर की तो गंभीर परिणाम भुगतना होगा.

इससे पहले भी मांगी गई है रंगदारी

बता दें कि विधायक ढूल्लु महतो से 19 फरवरी 2019 को फोन पर दो लाख की रंगदारी की मांग गयी थी. इस मामले में ओमप्रकाश रवानी को भोजपुर से गिरफ्तार किया गया था. आठ दिसंबर 2018 को फेसबुक पर विधायक से गाली-गलौज की गयी थी.

मामले में आरा से बिट्टू सिंह को पकड़ा गया था. पांच करोड़ की रंगदारी मांगने का मामला सामने पर पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए धमकी देनेवाले की गिरफ्तारी के लिए विशेष टीम का गठन किया है. टीम मोबाइल सर्विलांस के सहारे उस तक पहुंचने की तैयारी में है.

धमकी देनेवाले के मोबाइल का लोकेशन मुजफ्फरपुर बताया जा रहा है. उसे गिरफ्तार करने के लिए एक पुलिस टीम तत्काल मुजफ्फरपुर के लिए रवाना हो गई.

महिला के साथ छेड़छाड़ का है आरोप

उल्लेखनीय है कि ढुल्लू महतो पर महिला के द्वारा लगाये गये छेड़छाड़ के आरोप के सहित 28 आपराधिक मामले चल रहे हैं. महिला के द्वारा छेड़छाड़ का आरोप के मामले में पीड़ित महिला के द्वारा ढुल्लू महतो के खिलाफ शिकायत करने के बावजूद पुलिस की ओर से विधायक ढुल्लू के विरुद्ध यौन शोषण के आरोप की जांच शुरू नहीं होने के बाद पीड़िता ने हाइकोर्ट में याचिका दायर की है.

इसमें कोर्ट को बताया है कि नवंबर 2018 में कतरास थाने में जाकर उसने प्राथमिकी दर्ज कराने की कोशिश की. लेकिन पुलिस ने प्राथमिकी दर्ज नहीं की. इसके बाद उसने तीन नवंबर को ऑनलाइन प्राथमिकी दर्ज करायी. वहीं डीजीपी, महिला आयोग, मानवाधिकार आयोग से भी शिकायत की,लेकिन इस मामले में अब तक कोई कार्रवाई नहीं की गयी.

इसे भी पढ़ेंःबैंकों की संपत्ति गुणवत्ता सुधरी, सितंबर तिमाही में फंसा कर्ज 9.1 प्रतिशत पर स्थिर: आरबीआइ रिपोर्ट

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: