DhanbadJharkhand

धनबाद: मासस के जिलाध्यक्ष बिंदा पासवान और बीसीकेयू के वरीय नेता सुरेश सहित पांच नेताओं की गिरफ्तारी के विरोध में प्रदर्शन

Dhanbad : बस्ताकोला क्षेत्र के सीकेडब्ल्यू साइडिंग के 246 मजदूरों को रोजगार देने की मांग को लेकर आंदोलन करने वाले बिहार कोलियरी कामगार यूनियन और मासस के पांच नेताओं को पुलिस ने गुरुवार की देर रात गिरफ्तार कर लिया है. जिससे बिहार कोलियरी कामगार यूनियन, मार्क्सवादी समन्वय समिति, जनता मजदूर संघ कुंती गुट के समर्थकों में काफी रोष है.

इसे भी पढ़ें:  बाड़मेर मिग-21 हादसा: आखिर कब तक उड़ते रहेंगे ताबूत ?

शुक्रवार को बेरा दोबारी कोलियरी कार्यालय के समक्ष मजदूरों ने प्रदर्शन किया. वहीं दूसरी ओर गोलकडीह लोडिंग पॉइंट के पास भी अनेक मजदूर नेता जुट रहे हैं. जुलूस के शक्ल में मजदूर और समर्थक साइडिंग में चल रहे धरना स्थल पर पहुंच रहे हैं. इनमें सबुर गोराई, बबलू महतो, प्रहलाद महतो, एएम पाल आदि प्रमुख हैं. पुलिस प्रशासन भी काफी चौकस हो गया है. स्थिति तनावपूर्ण बनती जा रही है. ट्रांसपोर्टिंग चालू होने पर झड़प होने की संभावना से इनकार नहीं किया जा सकता.

धरना पर पहुंच रहे नेताओं का कहना है कि गिरफ्तार कर प्रबंधन ने आग को भड़काया है. किसी भी कीमत पर ट्रांसपोर्टिंग चालू नहीं होने देंगे. बताते चलें कि साइडिंग बंद करने खिलाफ और यहां के 246 मजदूरों को रोजगार उपलब्ध कराने की मांग को लेकर 22 जुलाई से बस्ता कोला क्षेत्र का ट्रांसपोर्टिंग ठप है.

प्रशासन जितनी भी गिरफ्तारी कर लें, आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे: अरूप

निरसा के पूर्व विधायक अरूप चटर्जी ने कहा कि प्रशासन जितनी भी गिरफ्तारी कर लें, आंदोलन से पीछे नहीं हटेंगे. कोयला की ढुलाई नहीं होने देंगे. चाहे इसके लिए जो भी करना होगा करेंगे. जब तक साइडिंग चालू नहीं होगी. यहांं के मजदूरों के लिए वैकल्पिक व्यवस्था नहीं होगी. आंदोलन जारी रखेंगे. ठेकेदार और प्रबंधन के दबाव में प्रशासन काम कर रहा है. बेरा कोलियरी कार्यालय के प्रदर्शन में एएम पाल, लीला चौहान, संजय गणक, आनंद लाल महतो, नरेश रजक, आसित चटर्जी, प्रभास पाल आदि थे.

इसे भी पढ़ें:  चतरा के 24 बंधुआ मजदूरों को यूपी की बिजनौर पुलिस ने कराया मुक्त, सात आरोपी गिरफ्तार

मालूम हो कि बीसीसीएल प्रबंधन की ओर से सीके डब्लू साइडिंग को बंद करने के विरोध में बिहार कोलियरी कामगार यूनियन और मासस के मजदूरों का आंदोलन जोर पकड़ता जा रहा है. साइडिंग को बंद करने के विरोध और विस्थापन के सवाल पर गोलकडीह में कोयला ढुलाई को रोककर कई दिनों से बिहार कोलियरी कामगार यूनियन और मासस के मजदूरों की ओर से आंदोलन किया जा रहा है. आंदोलन का नेतृत्व कर रहे बीसीकेयू के केंद्रीय सचिव सुरेश प्रसाद गुप्ता को तिसरा थाना पुलिस ने गुरुवार की देर रात लोदना में जाकर उनके आवास से हिरासत में लिया. वहीं मासस के जिलाध्यक्ष बिंदा पासवान, कामता पासवान को गोलकडीह यज्ञ धौड़ा, राम प्रसाद यादव को डिस्को नगर श्रमिक कल्याण, शंकर रवानी को मोहरीबांध से रात को सोई अवस्था में पुलिस ने पकड़ा है.

सभी पर प्रशासन की ओर से मुकदमा किया गया है. सभी के खिलाफ बस्ताकोला प्रबंधन के अजय कुमार की ओर से मामला दर्ज किया गया था. सरकारी काम में व्यवधान डालने, उनके ट्रांसपोर्टिंग वाहन को जबरन रोककर धमकी देने, रंगदारी मांगने आदि का मामला तिसरा थाना में दर्ज किया गया था. यहां बता दें कि गुरुवार को साइडिंग को चालू करने की मांग को लेकर प्रशासन और आंदोलनकारी दिन भर आमने-सामने रहे. पूर्व विधायक अरुप चटर्जी भी पहुंचे. देर शाम पूर्व विधायक व कई पुलिस अधिकारी चले गए. रात्रि में रणनीति के तहत पुलिस ने सभी की गिरफ्तारी की. गिरफ्तार सभी नेताओं को गुप्त जगहों पर रखा गया है. पुलिस इस संबंध में कुछ भी कहने से इनकार कर रही है.

इसे भी पढ़ें: jamshedpur : दंग रह जाएंगे जेआरडी टाटा के आसमान में उड़ने की इस दीवानगी को जानकर 

Related Articles

Back to top button