न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबादः भूख और ठंड से 65 वर्षीय महिला की मौत, मौत के बाद जागा प्रशासन

1,622

Dhanbad: जिले झरिया के जोड़ापोखर थाना क्षेत्र में एक बुजुर्ग उम्र की महिला की मौत भूख और ठंड से हो गई. वार्ड संख्या 49 के पहला नंबर बस्ती में रहने वाली वृद्ध महिला (65 वर्षीय) मुनवा देवी की मौत तंगहाली और इस ठंड ने ले ली. मुनवा के पति की मृत्यु 15 साल पहले ही हो चुकी है. मुनवा की बेटी, आसपास के घरों में नौकरानी का काम कर किसी तरह अपना और अपनी मां का गुजारा चलाती थी.

दो दिनों की बारिश पड़ी भारी

मुनवा देवी, फाइल फोटो

गरीबी और तंगहाली में जी रही मुनवा का मकान चक्रवाती तूफान के कारण हुई दो दिनों की बारिश में पूरी तरह से गीला हो चुका था. वही घर पर ना खाट थी, ना ही मुनवा के पास कंबल. ऐसे में गिरते पारे ने मुनवा का हौसला तोड़ दिया. वही बारिश के कारण वो घर से बाहर भी नहीं जा सकती थी. हालात के हाथों मजबूर मुनवा की ठंड से ठिठुरते हुए मौत हो गई.

मौत के बाद सुध लेने पहुंचा प्रशासन

मामले की जानकारी लेते अधिकारी

मुनवा की मौत के बाद जिला प्रशासन की नींद खुली. मामले की सूचना पाकर झरिया सीओ केदारनाथ सिंह, झरिया विधायक संजीव सिंह के प्रतिनिधि अखिलेश सिंह और स्थानीय नेता बेलाल खान मृतक के घर पहुंचे और दुखी परिवार को ढांढस बंधाया. विधायक प्रतिनिधि अखिलेश सिंह ने कहा कि मृतक मुनवा काफी गरीब परिवार से है, जिसकी मौत ठंड औऱ भूख से हुई है.

साथ ही अखिलेश सिंह ने ये भी बताया कि वर्ष 2014 तक इस परिवार को लाल कार्ड से राशन मिलता था, लेकिन जिला प्रशासन की लापरवाही से इनका राशन बंद हो गया. अनपढ़ रहने के कारण मुनवा नया राशन कार्ड नहीं बना सकी. वही झरिया सीओ केदारनाथ सिंह ने कहा कि मुनवा काफी गरीब परिवार से थी. जांच की जा रही है, शव का पोस्मार्टम किया जाएगा. इसके बाद ही पता चलेगा कि मौत कैसे हुई.

वही स्थानीय नेता बेलाल खान ने पूरे मामले में इलाके के पार्षद को घेरा. उनका कहना था कि नगर निगम द्वारा इस क्षेत्र में कोई भी विकास का काम नहीं हुआ है. वही पार्षद भी ध्यान नहीं देते हैं. बेलाल खान ने जिला प्रशासन से मृतक के परिवार को हर संभव मदद देने की अपील की है.

इसे भी पढ़ेंःरेगुलेटरी कमिशन के भवन निर्माण का मामला: हाईकोर्ट और सीएम का आदेश भी नहीं मानते अफसर

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: