न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबादः कोर्ट ने केंद्रीय कृषि मंत्री तोमर के खिलाफ जारी किया गिरफ्तारी वारंट

राहुल गांधी पर विवादित टिप्पणी करने का मामला

697

Dhanbad: धनबाद कोर्ट ने केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर के खिलाफ गिरफ्तारी का वारंट जारी किया है. राहुल गांधी पर विवादित टिप्पणी करने मामले में कोर्ट ने वारंट जारी किया है.

मिली जानकारी के अनुसार, बार-बार समन जारी करने के बावजूद तोमर द्वारा हाजिर नहीं होने के बाद कोर्ट ने मंगलवार को गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया.

राहुल गांधी पर की थी विवादित टिप्पणी

केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने 19 जनवरी 2016 को धनबाद के टाउन हॉल में एक कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी पर विवादित टिप्पणी की थी.

इसे भी पढ़ेंःश्रीलंका में सभी मुस्लिम मंत्रियों ने दिया इस्तीफा, हिन्दू सांसदों ने जताया कड़ा ऐतराज

विवादित बयान को लेकर 21 जनवरी 2016 कांग्रेस नेता एमके आजाद ने धनबाद कोर्ट में मंत्री तोमर के खिलाफ शिकायतवाद दाखिल कर कार्रवाई की मांग की थी.

हाजिर नहीं होने पर गिरफ्तारी वारंट जारी

मिली जानकारी के अनुसार, धनबाद कोर्ट ने केंद्रीय मंत्री के खिलाफ मानहानि की धारा 506 के तहत संज्ञान लेते हुए सुनवाई शुरू की थी. धनबाद कोर्ट द्वारा समन जारी करने के बाद केंद्रीय मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर कोर्ट हाजिर नहीं हुए.

जिसके बाद 1 मई 2019 को सुनवाई करते हुए प्रथम श्रेणी न्यायिक दंडाधिकारी आरके सिंह की अदालत ने मंत्री तोमर को चार जून 2019 तक अदालत में हाजिर होने का निर्देश दिया था.

हाजिर नहीं होने पर मंगलवार को सुनवाई के दौरान अदालत ने कृषि मंत्री के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी करने का आदेश दिया है.

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर

मोदी मंत्रिमंडल में बीजेपी के वरिष्ठ नेता नरेंद्र सिंह तोमर को कैबिनेट मंत्री बनाया गया. उन्हें कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय का भार सौंपा गया है. उनके पास ग्रामीण विकास पेयजल और पंचायती राज जैसा अहम मंत्रालय भी है.

इसे भी पढ़ेंःमुस्लिम समुदाय को ईद का तोहफाः 55 करोड़ की लागत से तैयार हज हाउस का सीएम ने किया लोकार्पण

बता दे नरेंद्र सिंह तोमर नरेंद्र मोदी की पहली सरकार में ग्रामीण विकास मंत्री थे. नरेंद्र सिंह तोमर बीजेपी के वरिष्ठ नेता में गिने जाते है वो लगातार दूसरी बार केंद्रीय मंत्रिमंडल में शामिल किए गए. वर्ष 2014 में ग्वालियर से लोकसभा चुनाव जीतने के बाद तोमर ने केन्द्र की राजनीति में लम्बा रास्ता तय कर लिया है.

इसे भी पढ़ेंःमोदी को “राष्ट्र ऋषि” की उपाधि देने पर मतभेद, घोषणा के हफ्ते भर बाद काशी परिषद में फूट

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्लर्क नियुक्ति के लिए फॉर्म की फीस 1000 रुपये, कितना जायज ? हमें लिखें..
झारखंड में नौकरी देने वाली हर प्रतियोगिता परीक्षा विवादों में घिरी होती है.
अब JSSC की ओर से क्लर्क की नियुक्ति के लिये विज्ञापन निकाला है.
जिसके फॉर्म की फीस 1000 रुपये है. यह फीस UPSC के जरिये IAS बनने वाली परीक्षा से
10 गुणा ज्यादा है. झारखंड में साहेब बनानेवाली JPSC  परीक्षा की फीस से 400 रुपये अधिक. 
क्या आपको लगता है कि JSSC  द्वारा तय फीस की रकम जायज है.
इस बारे में आप क्या सोंचते हैं. हमें लिखें या वीडियो मैसेज वाट्सएप करें.
हम उसे newswing.com पर  प्रकाशित करेंगे. ताकि आपकी बात सरकार तक पहुंचे. 
अपने विचार लिखने व वीडियो भेजने के लिये यहां क्लिक करें.

you're currently offline

%d bloggers like this: