DhanbadTODAY'S NW TOP NEWS

#Dhanbad:ईसीएल कर्मी को गांजा तस्कर बताकर जेल भेजने के मामले में CID ने की DSP से पूछताछ

Dhanbad: गांजा तस्करी के फर्जी मामले में निर्दोष ईसीएल कर्मी चिरंजीत घोष को जेल भेजने के मामले में जांच शुरू हो गयी है. इस कांड के अनुसंधान का प्रभार तत्काल प्रभाव से सीआइडी ने अपने जिम्मे लेने के बाद इसकी जांच तेज कर दी है.

सीआइडी की एसआइटी टीम निरसा थाना पहुंची और गांजा तस्करी से मामले से संबंधित फाइलों की जांच की. इस दौरान सीआइडी टीम ने निरसा एसडीपीओ विजय कुशवाहा से लंबी पूछताछ की और कई बिंदुओं पर उनसे जानकारी ली है.

इसे भी पढ़ेंः#Coronaupdate: संक्रमण से दुनिया का 11वां सबसे अधिक प्रभावित देश भारत, एक लाख 18 हजार से ज्यादा बीमार

कांड की जांच का प्रभार तत्काल प्रभाव से सीआइडी ने अपने जिम्मे ली है

बता दें कि गांजा तस्करी के फर्जी मामले में निर्दोष ईसीएल कर्मी चिरंजीत घोष को धनबाद पुलिस ने जेल भेज दिया था. 20 मई को इस कांड की जांच का प्रभार तत्काल प्रभाव से सीआइडी ने अपने जिम्मे ले लिया है. इस मामले में धनबाद के पुलिस अफसरों पर आरोप है कि किसी के कहने पर इसीएल कर्मी को फर्जी मामले में फंसाया गया था.

सवाल उठ रहा है कि किसके कहने पर? एक सवाल यह भी उठ रहा है कि आखिर गांजा कहां से लाया गया? पुलिस ने खुद रखा या किसी दूसरे तस्कर से मंगाया? इस कांड के अनुसंधान के लिए एक विशेष टीम का गठन किया गया है. जिसका नेतृत्व डीएसपी रैंक के पदाधिकारी द्वारा किया जाएगा. इंस्पेक्टर, दारोगा और एएसआइ रैंक के पदाधिकारी इस कांड के अनुसंधान में सहयोग करेंगे.

इसे भी पढ़ेंः#FightAgainstCorona : झारखंड में सिर्फ 7 दिन में बढ़ गये 100 कोरोना पॉजिटिव, पहले एक सौ में लगे थे 29 दिन

कोलकर्मी की पत्नी ने सीएम से की थी शिकायत

बता दें कि ईसीएल के झांझरा प्रोजेक्ट में कार्यरत कोलकर्मी चिरंजीत घोष की पत्नी श्रावणी शेवाती ने मामले की शिकायत सीएम से की थी. श्रावणी ने अपनी शिकायत में कहा था कि बंगाल के एक एसडीपीओ उन्हें प्रताड़ित कर रहे हैं.

उसने फोन पर अनचाहा दबाव बनाने की कोशिश की थी. एसडीपीओ की बात न मानने पर धनबाद पुलिस से सांठगांठ कर उसके पति को झूठे मुकदमे में फंसा दिया गया. 8 मई को सीआइडी के एडीजी अनिल पाल्टा ने मामले की जांच की जिम्मेदारी बोकारो डीआइजी प्रभात कुमार को सौंपी थी. जांच के बाद डीआइजी ने निरसा थाना प्रभारी को दोषी मानते हुए निलंबित कर दिया था.

 क्या है मामला

25 अगस्त, 2019 को धनबाद के निरसा में पुलिस ने एक सेवरले गाड़ी से 39 किलो गांजा बरामद किया था. इस मामले में धनबाद पुलिस ने ईसीएल कर्मी चिरंजित घोष को गांजा तस्करी का किंगपिन बताते हुए आरोपी बनाया था. धनबाद पुलिस ने इस मामले में चिरंजीत को गिरफ्तार कर जेल भी भेज दिया था.

चिरंजीत के जेल भेजे जाने के बाद उसकी पत्नी ने तत्कालीन डीजीपी केएन चौबे समेत राज्य पुलिस के अन्य अधिकारियों से मुलाकात कर इंसाफ की गुहार लगायी थी. चिरंजीत की पत्नी के मुताबिक, उसके पति को बंगाल पुलिस के एक अधिकारी ने साजिश कर फंसाया था.

जिसके बाद मुख्यालय स्तर से मामले की जांच करायी गयी. जांच में यह साबित हुआ था कि चिरंजीत को गलत तरीके से फंसा कर जेल भेजा गया था. पुलिस ने पोल खुलने के बाद कोर्ट में तथ्यों की भूल बताते हुए चिरंजीत को रिहा कराया था.

इसे भी पढ़ेंः#Lockdown के दौरान रांची पुलिस ने काटे 5.21 करोड़ से अधिक के चालान

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: