न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

धनबाद : BCCL ने कांटा घर और रैक प्वाइंट बनाकर दो बस्तियों के 50 हजार लोगों का रास्ता किया बंद

रास्ता बंद होने से बीसीसीएल के सैकड़ों कर्मी भी परेशान हैं. बीसीसीएल आम लोगों के साथ-साथ अपने कर्मियों की सुविधा का भी कोई ध्यान नहीं रख रहा है.

1,146

Dhanbad : लोदना और कुजामा बस्ती जाने के लिए कोई सड़क नहीं बची है. झरिया से महज डेढ़ किमी की दूरी की पर बसी इन दोनों बस्तियों में लगभग 50 हजार लोगों की आबादी है.

एक समय था जब इन बस्तियों में सारी सुविधायें थी. आने-जाने के लिए सड़क थी लेकिन इन सड़कों को बीसीसीएल ने बंद कर दिया है. इन बस्तियों में रहने वाले लोगों के आने-जाने के लिए कोई वैकल्पिक व्यवस्था भी नहीं की गयी. अब इन बस्तियों में न तो कोई एंबुलेंस आ सकती है और न ही कोई स्कूल वाहन. मोटरसाइकिल से भी आप मुश्किल से ही इन बस्तियों में जा सकते हैं.

इसे भी पढ़ें : 12 सितंबर को पीएम मोदी का रांची आना लगभग तय, विधानसभा का उद्घाटन और आमसभा करेंगे!

मोहरीबन होते हुए जाथी थी सड़क

धनबाद : BCCL ने कांटा घर और रैक प्वाइंट बनाकर दो बस्तियों के 50 हजार लोगों का रास्ता किया बंदपहले झरिया से एक सड़क थी जो मोहरीबन होते हुए कुजामा और लोदना जाती थी. इस सड़क को बंद कर बीसीसीएल ने एक और कांटा घर बना लिया. इसी सड़क के दूसरी ओर रैक लोडिंग प्वाइंट बना दिया गया है.

रैक लोडिंग प्वाइंट होने से, जो लोग पैदल या बाइक से आना-जाना करते थे, उनके सामने भी परेशानी उत्पन्न हो गयी है. इसी रास्ते के समीप बीसीसीएल की आउटसोर्सिंग भी है. यह अग्नि प्रभावित और भू धंसान वाला क्षेत्र है. अक्सर यहां गैस रिसाव होता रहता है.

लोदना और कुजामा घनी बस्ती वाला क्षेत्र है. इस क्षेत्र में लोग निजी घर बनाकर तो रह ही रहे हैं, साथ ही बीसीसीएल के भी सैकड़ों क्वार्टर भी हैं. रास्ता बंद होने से बीसीसीएल के सैकड़ों कर्मी भी परेशान हैं. बीसीसीएल आम लोगों के साथ-साथ अपने कर्मियों की सुविधा का भी कोई ध्यान नहीं रख रहा है.

इसे भी पढ़ें : बीआइटी थाना परिसर में मुंशी ने फांसी लगाकर दी जान

बदहाली की ओर बढ़ रही है बस्ती

संयुक्त मोर्चा के नेता राजू झा और स्थानीय राजेश पासवान ने बताया कि एक समय था कि लोदना और कुजामा बस्ती गुलजार हुआ करती थी. यहां आवागमन के भी सारे साधन मौजूद थे. लेकिन बीसीसीएल ने अपनी जरूरत के लिए आउटसोर्सिंग, रैक प्वाइंट और कांटा घर खोलकर इन रास्तों को बंद कर दिया है. उन्होंने बताया कि बीसीसीएल ने बीच सड़क पर ही कांटा घर और रैक लोडिंग प्वाइंट खोल दिया है. फलस्वरूप यहां न तो कोई एंबुलेंस आ सकती है और न ही कोई अन्य वाहन. इन बस्तियों में सारे विकास कार्य बंद हो गये हैं. अब यह बस्ती बदहाली की ओर बढ़ रही है.

…तो उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे लोग

धनबाद : BCCL ने कांटा घर और रैक प्वाइंट बनाकर दो बस्तियों के 50 हजार लोगों का रास्ता किया बंदसड़क की मांग को लेकर स्थानीय लोगों ने कई बार आंदोलन किये. सड़क जाम किया और धरना प्रदर्शन कर सड़क निर्माण की मांग की. आंदोलन के दौरान बीसीसीएल के अधिकारियों ने वैकल्पिक व्यवस्था देने का आश्वासन दिया था लेकिन आज तक इस दिशा में कोई पहल नहीं हुई.

सड़क बंद होने से इन दोनों बस्तियों के लोगों में आक्रोश है. उनका कहना है कि सड़क छीन जाने जे से हमलोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. हम लोगों को बीसीसीएल या नगर निगम सड़क बनाकर दे, अन्यथा हम लोग उग्र आंदोलन करने को बाध्य होंगे.

यहां सड़क बनाने की नहीं है कोई योजना

इस संबंध में बीसीसीएल के लोदना परियोजना पदाधिकारी मणिकांत पाण्डेय का कहना है कि सड़क बनाने की यहां कोई योजना नहीं है. लोगों परेशानी हो रही है तो इसमें हम कुछ नहीं कर सकते.

इसे भी पढ़ें : IPRD : प्रेस बयान बनाने के लिए पत्रकारों को नियुक्त कर लिये, अब चार माह से नहीं दे रहे वेतन, कई ने काम छोड़ा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
क्या आपको लगता है हम स्वतंत्र और निष्पक्ष पत्रकारिता कर रहे हैं. अगर हां, तो इसे बचाने के लिए हमें आर्थिक मदद करें.
आप अखबारों को हर दिन 5 रूपये देते हैं. टीवी न्यूज के पैसे देते हैं. हमें हर दिन 1 रूपये और महीने में 30 रूपये देकर हमारी मदद करें.
मदद करने के लिए यहां क्लिक करें.-

you're currently offline

%d bloggers like this: