DhanbadJharkhand

#Dhanbad : अलग-अलग स्थानों पर छापामारी कर अवैध बालू लदे 20 वाहनों को किया गया जब्त

Dhanbad : शनिवार को एसडीएम के नेतृत्व में औचक छापामारी कर बालू लदे लगभग 20 वाहनों को जब्त कर लिया गया है.

बताया जाता है कि सभी पकड़े गये वाहनों के चालकों से कागजात की मांग की लेकिन वे कागजात नहीं दिखा पाये. एसडीएम ने कहा कि मामले की जांच की जा रही है. मामले की प्राथमिकी दर्ज की जायेगी.

उन्होंने कहा कि अवैध बालू के कारोबार को जिले में किसी भी हाल में चलने नहीं दिया जायेगा. पकड़े गये वाहनों में बालू लदे ट्रक के साथ–साथ 407 वाहन और ट्रैक्टर हैं. जब्त वाहनों की जांच की जा रही है.

advt

इसे भी पढ़ें : मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आजसू सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी के पूर्व निजी सचिव के दो रिश्तेदारों ने किया सरेंडर

कई घाटों से जारी बालू का उठाव


वहीं स्थानीय लोग इस कार्रवाई को दिखावा बताते हैं. स्थानीय लोगो के अनुसार जिला प्रशासन के दावों के विपरीत धनबाद के कई  बालू घाटों से बालू का अवैध उठाव जारी है.

adv

नदी घाटों पर बेख़ौफ़ बालू तस्करों की गाड़ियों में बालू लोडकर निकल रहे हैं. इसके वावजूद जिला प्रशाशन द्वारा कोई कार्रवाई काईवाई नहीं की जा रही है.

बालू तस्करों पर कार्रवाई नहीं होने से इन अवैध कारोबारियों के हौसले बुलंद हैं तो दूसरी तरफ प्रतिदन सरकार को आर्थिक नुकसान भी उठाना पड़ रहा है.

स्थानीय लोग अवैध तरीके से बालू उत्खनन के काम में प्रशासनिक मिलीभगत का आरोप भी लगाते हैं.

इसे भी पढ़ें : राज्य में औसतन हर छठे दिन पकड़ा जा रहा एक घूसखोर, 2 महीने में 10 अधिकारी-कर्मचारी गिरफ्तार

प्रति गाड़ी 250 रुपये की होती है वसूली

बताया जाता है कि जिले में अब भी कई घाट हैं जहां बालू का अवैध कारोबार बेखौफ ढंग से चल रहा है. धनबाद के  भौरा सुदामडीह, डोमगढ़ सिंदरी  घाटों पर रात के  अंधेरे में गाड़ियां बालू के उठाव के लिए पहुंचती है.

इन घाटों पर वाहन पहुंचते ही गाड़ियों से प्रवेश शुल्क के नाम पर बालू तस्कर प्रति गाड़ी 250 रुपये की वसूली करते हैं. सूत्रों के अनुसार वाहनों से वसूली गयी राशि स्थानीय थाना से लेकर जिला के खनन विभाग के अधिकारियों तक प्रतिमाह पहुंचती है.

हालांकि इस मामले को लेकर जब न्यूज विंग की टीम ने  जिला खनन पदाधिकारी निशांत अभिषेक से बात की तो उन्होंने कहा कि मामला हमारे संज्ञान में नहीं था. हमारे विभाग द्वारा समय-समय पर कार्रवाई की जाती है.

इसे भी पढ़ें : धनबाद: डेढ़ साल से खराब है कोकराद गांव का जलमीनार, बूंद-बूंद पानी को तरस रहे लोग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: