न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सरकारी छुट्टी के दिन भी बनी मजदूरों की हाजिरी, निकाल लिये 17 हजार रुपये

धनबाद नगर निगम में 17,000 का घोटाला है मामूली

121

Dhanbad : रविवार और होली के दिन मजदूरों की हाजिरी अटेंडेंस शीट देखकर स्पष्ट होती है. इस दिन 26 मजदूरों को उपस्थित बताकर मजदूरी के साथ डीजल के पैसे भी हजम कर गये. बात धनबाद नगर निगम की है. यहां घोटालों की बात लगातार सामने आ रही है. जिस मामले का जिक्र कर रहे हैं यह झरिया अंचल के वार्ड नंबर 38 का है. पिछले साल होली 2017 में सरकारी अवकाश था. सभी नगर निगम के कर्मचारी और अधिकारी छुट्टी पर थे. यह उल्लेख कागजात में मिलता है. फिर भी सफाई कर्मचारियों की उपस्थिति रजिस्टर में मौजूद देखी गई, इतना ही नहीं सभी का वेतन भुगतान भी हो गया.

वहीं होली के एक दिन पूर्व रविवार था. इस दिन भी सारे ट्रैक्टर चालक छुट्टी पर थे और फिर भी अलग-अलग नंबरों के जरिए ट्रैक्टर नंबर देकर 118 लीटर डीजल का बिल कटवाया गया. इस तरह का खेल अंचल पदाधिकारी नहीं बल्कि निगम के वरीय पदाधिकारी की मिलीभगत से हो रहा है. इसका खुलासा राष्ट्रीय लोक समता पार्टी के जिलाध्यक्ष संजय प्रसाद कुशवाहा ने आरटीआई के जरिए मांगी गई सूचनाओं के आधार पर किया है. उन्होंने 10  से 15 मार्च के बीच की हाजिरी और खर्च का ब्योरा मांगा था. होली के दिन सफाई कर्मचारी प्रत्येक वार्ड के छुट्टी पर थे पर झरिया के 38 नंबर वार्ड  में सभी कर्मचारी की उपस्थिति दर्ज थी. जबकि सभी लोग सरकारी अवकाश पर थे.

इसे भी पढ़ेंःचतरा: टीपीसी उग्रवादियों के साथ मुठभेड़, एक गिरफ्तार-भारी मात्रा में हथियार बरामद

hosp3

5 दिन में यह कारनामा क्या बताता है

निगम के एक वार्ड के पांच दिनों के सफाई के खर्च में  करीब 18,000 रुपये के घोटाला से क्या पता चलता है ?  यही कि ऐसे घोटालों को पकड़ने की निगम में किसी को फुरसत नहीं है. इस तरह के छोटे घोटाले पर किसी का ध्यान ही नहीं है. सवाल है कि जब सफाई पर खर्च के पांच दिन का ब्योरा मांगने पर यह गड़बड़ी पकड़ी गयी, तो पता नहीं निगम के अन्य वार्ड में क्या, क्या घपला चल रहा है. निगम में व्याप्त घपले के बहुत से सबूत मिले है. जिसके आधार पर कहा जा सकता है कि यहां के जिम्मेवार पदाधिकारी जनता की गाढ़ी कमाई के पैसे के सदुपयोग के प्रति लापरवाह हैं.

इसे भी पढ़ेंःJPSC: एक पेपर जांचने के लिए चाहिए 60 से अधिक टीचर, मेंस एग्जाम की कॉपी चेक करना बड़ी चुनौती

क्या कहते हैं पार्षद 

पार्षद जय कुमार ने कहा कि रविवार की छुट्टी के दिन 118 लीटर डीजल लेना और होली के दिन जब कोई मजदूर काम पर नहीं आए था फिर भी सभी की उपस्थिति दर्ज करना यह नगर निगम की लापरवाही है. अंचल के ऐसे पदाधिकारियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जानी चाहिए.

इसे भी पढ़ेंःबीसीसीएल, सीआईएसएफ, सीबीआई, पुलिस, ट्रेड यूनियन नेता और कोयला अधिकारी एक ही थैली के चट्टे-बट्टे

कहते हैं नगर आयुक्त

नगर आयुक्त चंद्र मोहन कश्यप ने कहा कि मेरे संज्ञान में यह मामला नहीं है, मैं जांच करवाता हूं. सच्चाई पाई गई तो अंचल पदाधिकारी पर जरूर विभागीय कार्रवाई होगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: