न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

वाइंडिंग इंजन रिपेयरिंग के नाम पर फर्जी तरीके से निकाल लिए गये 1.90 लाख्‍ा

113

Dhanbad :  काम हुआ नहीं और बिल पास हो गया. यह मामला बीसीसीएल गोपालीचक नंबर 2 का है. यहां बाइंडिंग इंजन की रिपेयरिंग कार्य के नाम पर कर्मचारी और अधिकारी की मिलीभगत से 1 लाख 90 हज़ार 700  रुपए गलत तरीके से बीसीसीएल के खाते से निकाले गए. इसका खुलासा आरटीआई के माध्‍यम से हुआ.

इसे भी पढ़ें :चाईबासा अब विकास की राह पर : रघुवर दास

क्या है पूरा मामला

वाइंडिंग इंजन ऑपरेटरों ने चानक के बाइंडिंग इंजन में गड़बड़ी और ब्रेक सुचारू रूप से काम नहीं करने समेत अन्य प्रकार की लिखित आवेदन प्रबंधक, कोलियरी अभियंता और परियोजना पदाधिकारी को कई बार दिया. इसके बावजूद नहीं बना. अंततः उन्होंन प्रबंधक से लेकर महाप्रबंधक तक फिर एक आवेदन 10 जून 2017 को लिखा. इसमें ऑपरेटरों ने साफ शब्दों में कहा कि इंजन के सिलेंडर में लीकेज है जो कभी भी नुकसानदायक हो सकता है, इतना ही नहीं इंजन का इमरजेंसी भल्‍व पूरी तरह से बैठ गया. जिसके कारण स्टीम निरंतर लीकेज होकर इंजन में आते रहता है. जिसे इंजन का ब्रेक भी कभी-कभी फेल हो जाता है. इससे कभी भी बड़ा दुर्घटना घट सकती है. जिसमें हम लोगों की जान भी जा सकती है. फिर भी ऑपरेटरों ने अपनी प्रयास जारी रखा और इसकी जानकारी फीडर वर्क फॉर मैन को भी दी. इसके बावजूद कोई कार्य नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें :धनबाद के विधायक राज सिन्हा की राजनीति का राज क्या है?

अधिकारी और कर्मचारियों की मिलीभगत से हुआ सब खेल 

ऑपरेटर के चानक बाइंडिंग इंजन में खराबी को लेकर आवेदन दिए जाने के बावजूद कोई कार्य नहीं हुआ पर अधिकारी और कर्मचारियों की मिलीभगत कर गलत तरीके से 1लाख 90 हज़ार 700 रुपए 15 मार्च 2017 को बीसीसीएल के खाते से निकाल लिया गया. इसका  खुलासा रालोसपा नेता संजय प्रसाद कुशवाहा के किए. आरटीआई के जरिए हुआ. उन्होंने कहा कि इस तरह का घोटाला विभाग के कर्मचारी से लेकर अधिकारी की मिलीभगत से कई बार हो चुका है. फिर भी अबतक कोई ठोस कार्रवाई विभाग के वरीय पदाधिकारी नहीं उठा रहे हैं. जिसे भ्रष्टाचार पर रोक लगाई जा सके.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: