JharkhandLead NewsRanchi

आला अधिकारियों के साथ DGP की समीक्षा बैठक, अनुसंधान लंबित रखने वाले अधिकारियों पर होगी कार्रवाई

Ranchi : राज्य में सक्रिय अपराधियों की सूची तैयार की जाएगी. जो अपराधी जेल में हैं या जेल से जमानत पर छूटकर अपराधिक मामले में शामिल हैं, वैसे अपराधियों रद्द करने को लेकर डीजीपी निरज सिन्हा ने पुलिस मुख्यालय में समीक्षा बैठक की. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से समीक्षा बैठक में आईजी, डीआईजी, एसएसपी, एसपी शामिल थे. समीक्षा में कई एजेंडे पर चर्चा की गयी और आवश्यक दिशा निर्देश भी दिए गए.

डीजीपी ने अधिकारियों को संगठित आपराधिक गिरोह के अपराधियों पर लगाम लगाने का निर्देश दिया. उन्होंने वरीय पदाधिकारियों को स्वयं पेट्रोलिंग के लिए निर्देश देने के लिए कहा. अपराध नियंत्रण के लिए वाहनों के आवश्यक निरीक्षण करने का भी निर्देश दिया.

इसे भी पढ़ें:BIG NEWS : हैदराबाद की डॉक्टर के गैंग रेप और हत्या के अभियुक्तों का एनकाउंटर ‘फ़र्ज़ी’, 10 पुलिसवालों पर चले हत्या का केस : जाँच आयोग

Catalyst IAS
SIP abacus

अपराध करने के पश्चात फरार होने वाले अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए शहर के बॉर्डर एरिया को सील करने का भी निर्देश दिया गया. वहीं लंबित कांडों की समीक्षा के दौरान त्वरित अनुसंधान का निर्देश दिया.

MDLM
Sanjeevani

अनुसंधान लंबित रखने वाले पदाधिकारी को चिन्हित कर कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया गया. बैठक में सीआईडी के एडीजी प्रशांत सिंह, एडीजी अभियान संजय लाटकर, आईजी अभियान अमोल विनुकांत होमकर, रांची रेंज के आईजी पंकज कंबोज, जगुआर के डीआईजी अनूप विरथरे, सीआईडी के डीआईजी सुनील भास्कर, रांची रेंज के डीआईजी अनिल गुप्ता, सीआईडी एसपी एस कार्तिक, जैप 2 के समादेष्टा इंद्रजीत महथा, जगुआर एसपी शैलेंद्र वर्णवाल और धनंजय सिंह के अलावे सभी क्षेत्रीय आईजी, डीआईजी, एसएसपी और एसपी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से शामिल हुए.

इसे भी पढ़ें:Gyanvapi Masjid Case: इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 6 जुलाई तक स्थगित की सुनवाई, ज्ञानवापी के बाहर नमाजियों की भारी भीड़

सीआईडी ने अपराध पर लगाम के लिए कार्य योजना प्रस्तुत की

समीक्षा बैठक में सीआईडी के द्वारा विगत 3 महीने के अंदर प्रति वेदित कांडों की स्थिति पर विस्तार से प्रस्तुति और उसकी निष्पादन के लिए बनायी गयी. कार्य योजना को बताया गया.

सीआईडी के द्वारा विगत 3 माह के दौरान राज्य में संगठित आपराधिक गिरोहों की पहचान एवं उनके द्वारा की गयी अपराधिक घटना इन घटनाओं की रोकथाम के लिए बनायी गयी कार्य योजना की प्रस्तुति दी.

इसे भी पढ़ें:रांची के पल्स अस्पताल की जमीन की गायब जांच रिपोर्ट मिली, 12 दिनों से ढूंढ रहे थे अधिकारी

ये निर्देश भी दिये गये है

1 हाल के दिनों में ऐसी घटनाएं जिसकी वजह विधि व्यवस्था पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है, उसकी विस्तृत समीक्षा की गयी. उक्त घटनाओं का सघन अनुसंधान कर अपराधियों के विरुद्ध सख्त कार्रवाई का निर्देश दिया गया.

2 राज्य में संगठित आपराधिक गिरोह के विरुद्ध कठोर कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया.

3 संगठित आपराधिक गिरोह की अवैध आर्थिक गतिविधियां कोयला बालू एवं जमीन की अवैध कारोबार में संलिप्त पर कठोरता से नियंत्रण के लिए आवश्यक कार्रवाई का निर्देश दिया गया.

4 कोयला बालू पत्थर या अन्य अवैध कार्य पर प्रत्येक जिले में सख्ती से अंकुश लगाने का निर्देश दिया गया. बीजेपी ने बैठक के दौरान सभी पदाधिकारियों को स्पष्ट तौर पर चेतावनी देते हुए कहा इस संदर्भ में यदि कोई शिकायत मिलती है तो स्थानीय पदाधिकारी को जिम्मेदार मानते हुए कठोर अनुशासनात्मक कार्रवाई की जाएगी.

5 साइबर कांड के अनुसंधान के लिए जिला स्तर पर विशेष टीम गठित कर लंबित अनुसंधान को पूर्ण करने का निर्देश दिया गया.

6जेल से आपराधिक गतिविधियों पर प्रभावी नियंत्रण रखने का निर्देश दिया गया.

7 अपराध नियंत्रण के लिए जिला और क्षेत्र स्तर पर समय-समय पर तथा स्थान बदलकर प्रभावी चेकिंग अभियान चलाने का निर्देश दिया गया.

8 कुख्यात अपराधियों के विरुद्ध स्पीडी ट्रायल का निर्देश दिया गया है. साथ ही अपराध नियंत्रण अधिनियम के तहत कार्रवाई का निर्देश दिया गया है. वैसे अपराधी जो जमानत पर है और अपराधिक गतिविधि में शामिल हैं, या यह जेल में अपराधिक गतिविधियों में संलिप्त है वैसे अपराधियों का जमानत रद्द करने का निर्देश दिया गया है.
साथ ही सीसीए के तहत कार्रवाई करने का भी निर्देश दिया है। आवश्यकता अनुसार अपराधियों को तड़ीपार, थाना हाजिरी का भी निर्देश दिया गया है, जो जमानत की शर्तों का पालन नहीं कर रहे हैं वैसे अपराधियों को जमानत रद्द कराने का निर्देश दिया गया है.

Related Articles

Back to top button