न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डीजीपी हो तो ऐसा, सर्वधर्म समभाव से संपन्न हैं डीके पांडेय

4,180

Akshay Kumar Jha

Ranchi: अधिकारी हों तो ऐसे. जात-धर्म से ऊपर अपनी ड्यूटी को प्राथमिकता देनेवाले. सभी धर्म के लोगों को समान रूप से देखनेवाले. ताकि समाज हिस्सों में ना बंट जाए. सभी के लिए कानून बराबर रहे इसलिए हर धर्म-समुदाय को समान रूप से देखनेवाले. कहा जाता है कि धर्म का संबंध कर्म से है. धर्म एक तरह से कर्म ही है. दर्शन मार्ग दिखाता है और धर्म की प्रेरणा से हम उस मार्ग पर बढ़ते हैं. हम किस प्रकार का कर्म करें, यह ज्ञान दर्शन और धर्म से प्राप्त होता है. जिस समाज में दर्शन एवं धर्म में सामंजस्य रहता है, ज्ञान एवं क्रिया में अनुरूपता होती है, उस समाज में शान्ति होती है और डीजीपी डीके पांडेय ने कानून व्यवस्था के जरिये शांति बहाल करने की राज्य में हर बार एक कामयाब कोशिश की है.

राम-रहीम सभी एक समान

डीजीपी डीके पांडेय की जब भी बात होती है. पहले यह धारणा थी कि वह हिंदू धर्म को लेकर कुछ ज्यादा ही सॉफ्ट थे. लेकिन अब उनकी एक दूसरी छवि भी सामने आयी है. जिससे पता चलता है कि डीके पांडेय हर धर्म को समान रूप से देखते हैं. कभी दुर्गा पूजा में बाबा का वेष धर कर चेकिंग करने निकल जाते हैं. कभी गर्दन में सांप लपेट कर मंदिर के पास जमीन पर बैठे दिखाई देते हैं. तो कभी साधु का वेश बना कर रजरप्पा पूजा करने पहुंच जाते हैं. इस बार डीजीपी डीके पांडेय की एक और तस्वीर वायरल हुई है. इस बार डीजीपी डीके पांडेय इबादत करते देखे जा रहे हैं. उनके आस-पास इस्लाम धर्म को माननेवाले कुछ धर्म गुरु मौजूद हैं. गले में फूल की माला और इबादत करते हुए तस्वीर डीजीपी डीके पांडेय की फिरदौस नगर डोरंडा की बतायी जा रही है. ऐसा शायद ही देखा जाता होगा कि इतना बड़ा अधिकारी किसी गरीब के घर में जाकर इबादत करता हो. ऐसा कर उन्होंने साबित किया है कि एक अधिकारी के लिए सभी धर्म एक जैसे हैं. साथ ही यह भी साबित होता है कि इबादत दिल से होती है. धर्म या परंपरा से नहीं.

Related Posts

राज अस्पताल में विश्व मरीज सुरक्षा दिवस मनाया गया

हाल ही में दुनिया में डब्ल्यूएचओ द्वारा मरीजों की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देने का संकल्प किया गया है.

कब कहां देखे गए

फरवरी महीने के दूसरे सप्ताह में डीजीपी डीके पांडे चतरा जिले के ईटखोरी में थे. पूजा कर जैसे ही वो ईटखोरी मंदिर के बाहर निकले उनकी नजर वहां एक संपेरे पर पड़ी. संपेरे के पास कई तरह के सांप थे. संपेरे के पास जाकर जमीन पर बैठ गये. संपेरे से एक कोबरा सांप लेकर उन्होंने अपने गले पर रखा. कुछ मिनटों तक वो सांप से खेलते रहे. 15 अक्टूबर को वो रजरप्पा मंदिर में दिखे. ऊपर से नीचे तक वो साधु के वेश में थे. मीडिया से बात करने से पहले उन्होंने “ॐ सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते” का पाठ किया और फिर मीडिया से बात की. अब इस बार डीजीपी डीके पांडेय फिरदौस नगर डोरंडा में देखे गए हैं. वो इबादत कर रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – ऐ ठंड थोड़ा अभी ठहर जा, कंबल का टेंडर ही तो निकला है…

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: