न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

डीजीपी ने राज्यभर के पुलिस अधिकारियों संग की बैठक, अपराध नियंत्रण पर चर्चा

68

Ranchi : पुलिस मुख्यालय में रविवार को डीजीपी डीके पांडेय की अध्यक्षता में राज्यभर के पुलिस अधिकारियों की बैठक हुई. यह बैठक मुख्य रूप से झारखंड हाई कोर्ट द्वारा वारंटी और मालखाना की वर्तमान रिपोर्ट मांगे जाने को लेकर हुई. इसमें अपराध पर नियंत्रण, अनुसंधानकर्ताओं को बेहतर प्रशिक्षण देने की योजना, पुलिस और जनता के बीच बेहतर रिश्ता बनाने सहित अन्य महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा हुई. बैठक में झारखंड के सभी जिलों के एसपी, क्षेत्र के आईजी, डीआईजी, पुलिस मुख्यालय में पदस्थापित डीआईजी, आईजी, एडीजी मौजूद थे. बैठक में अपराध अनुसंधान विभाग, विशेष शाखा, एटीएस के अफसर भी शामिल हुए.

mi banner add

इसे भी पढ़ें- रांची में गैंगवार में कुख्यात अपराधी सोनू इमरोज की गोली मारकर की हत्या

क्या है हाई कोर्ट का निर्देश

झारखंड हाई कोर्ट ने सरकार से पुलिस द्वारा जब्त किये गये हथियारों की एंट्री और उनके निस्तारण के लिए सरकार से विस्तृत कार्य योजना मांगी है. इस मामले को लेकर कोर्ट ने कई पुलिस अधिकारियों को कोर्ट तक बुलाया है. इसके अलावा कोर्ट ने सरकार से 70 दिनों में जवाब मांगा है कि राज्य में कितने वारंटी फरार हैं और अब तक झारखंड पुलिस ने कितने वारंटी को पकड़ा है.

इसे भी पढ़ें- इंजेक्शन लगाते ही सूर्या क्लीनिक में गर्भवती महिला की मौत, डॉक्टर व स्वास्थ्यकर्मी फरार

राज्य के गृह सचिव, डीजीपी सहित कई एसपी हुए थे कोर्ट में हाजिर

Related Posts

शिक्षा विभाग के दलालों पर महीने भर में कार्रवाई नहीं हुई तो आमरण अनशन करूंगा : परमार

सैकड़ो अभिभावक पांच सूत्री मांगों को लेकर शनिवार को रणधीर बर्मा चौक पर एक दिवसीय भूख हड़ताल पर बैठे

हाई कोर्ट के जस्टिस कैलाश प्रसाद देव की अदालत ने आर्म्स एक्ट में सजायाफ्ता की ओर से दायर क्रिमिनल अपील याचिका पर सुनवाई के दौरान बरामद हथियार को गंभीरता से लेते हुए आर्म्स रूल 2016 के इम्प्लीमेंटेशन को लेकर राज्य के गृह सचिव, डीजीपी सहित कई एसपी को एक नवंबर को कोर्ट में हाजिर होने का आदेश दिया था.

इसे भी पढ़ें- अवैध बूचड़खानों के खिलाफ तीन जगहों पर एक साथ छापेमारी, 10 कारोबारी गिरफ्तार

पांच नवंबर को होगी अगली सुनवाई

पूरे राज्य में जितने हथियार बरामद हुए हैं, उसे लेकर आर्म्स ब्यूरो बनाये जाने का प्रावधान है. धारा 103 और धारा 104 के तहत राज्य में क्या कर्रवाई हो रही है और किस तरीके से सरकार आगे कार्रवाई करेगी, इसी की चर्चा को लेकर हाई कोर्ट में सुनवाई हुई. कोर्ट ने गृह सचिव को तीन दिनों में प्रारंभिक रिपोर्ट देने का निर्देश देते हुए मामले का कैसे निष्पादन हो, यह तय करने का निर्देश दिया है. मामले की प्रोसीडिंग के दौरान कोर्ट ने सीजर लिस्ट के अनुरूप बरामद हथियारों की जांच के लिए टीम में न्यायिक, प्रसाशनिक और पुलिस अधिकारियों को शामिल करने की बात कही है. मामले की अगली सुनवाई पांच नवंबर को होगी. पांच नवंबर को कोर्ट के समक्ष सरकार को ब्लू प्रिंट तैयार करने का निर्देश दिया गया है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: