DhanbadJharkhand

वैज्ञानिक विकसित करें नई तकनीक, जिससे पर्यावरण प्रदूषित हुए बिना हो माइनिंग : द्रौपदी मुर्मू

Dhanbad : राष्ट्रीय सेमिनार को संबोधित करते हुए राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने कहा कि भारतीय अर्थव्यवस्था के विकास के लिये वर्तमान समय में माइनिंग सेक्टर का बहुत बड़ा योगदान है. लेकिन इसके कारण हमारा पर्यावरण भी प्रभावित हो रहा है. साथ ही माइनिंग इलाकों के आस पास के लोग भी इसकी वजह से बुरी तरह प्रभावित हो रहे हैं. इसलिए नई तकनीकि के माध्यम से कोयला खनन कर पर्यावरण को प्रदूषित होने से बचाया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- वेतन पर सालाना खर्च 261.97 करोड़, राजधानी समेत नौ जिलों के वन क्षेत्र में वृद्धि नहीं

क्या कहा राज्यपाल ने

राज्यपाल ने वैज्ञानिकों से कहा कि आप ऐसी तकनीक विकसित करें जिससे माइनिंग भी हो और हमारा पर्यावरण प्रदूषित भी नहीं हो. उन्होंने कहा कि राज्य के कुल 79714 वर्ग किलोमीटर भूमि में 29.61 फीसदी वन है. उन्होंने कहा कि पूरे देश की चालीस फीसदी खनिज संपदा हमारे राज्य में है, जिसमें कोयला उत्पादन में प्रथम, आयरन ओर उत्पादन में दूसरे और काॅपर उत्पादन में तीसरे स्थान पर हमारा राज्य है. राज्यपाल ने कहा कि वर्तमान समय में देश काफी तरक्की कर रहा है, जिसमें विज्ञान और आप वैज्ञानिकों का बहुत बड़ा योगदान है. विज्ञान की महत्ता को समझते हुए ही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने जय जवान, जय किसान के साथ-साथ जय विज्ञान का नारा दिया था.

इसे भी पढ़ें- तमिलनाडू से झारखंड आनेवाली 50 मेगावाट विंड एनर्जी के दावे फेल, सोमवार तक मिलनी थी बिजली, लेकिन अबतक हो रही टेस्टिंग

सेमिनार में 200 वैज्ञानिक थे उपस्थित

देश के प्रमुख शोध संस्थान सिंफर में दो दिनों तक चलने वाले राष्ट्रीय सेमिनार का उद्घाटन राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू, एनसीएल के सीएमडी पीके सिन्हा व सिंफर डायरेक्टर डाॅ. पी के सिंह ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्जवलित कर किया. खनन पद्धति में उभरते आधुनिक तकनीक विषय पर आयोजित इस राष्ट्रीय सेमिनार में अगले दो दिनों तक देश विदेश के दो सौ से अधिक वैज्ञानिक मंथन करेंगे और अपना विचार एक दूसरे से शेयर करेंगे. उद्घाटन के अवसर पर आईआईटी आइएसएम के निदेशक डॉ. राजीव शेखर, संस्थान के पूर्व निदेशक डाॅ. टी पी सिंह, डाॅ. अमलेन्दु सिन्हा के अलावे देश विदेश के 26 संगठनों से आये 200 वैज्ञानिक उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- दीपमाला के खुले पत्र पर सीएम गंभीर, दोनों अफसरों से सरकार मांगेगी जवाब, होगी कार्रवाई

इसे भी पढ़ें- लेटर नहीं लिखती तो मैं सुसाइड कर लेतीः डिप्टी कलेक्टर दीपमाला

Related Articles

Back to top button