JharkhandPalamu

पलामू में लॉकडाउन की पाबंदियों के बावजूद बिके 4000 से अधिक वाहन, परिवहन विभाग ने मांगा ब्योरा

Palamu : पलामू में लॉकडाउन कितना प्रभावी रहा इसका अंदाजा आप इस बात से लगा सकते हैं कि 22 अप्रैल 2021 को लाकडाउन (स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह) लगा. इस दौरान कड़ी पाबंदियां थीं. कई सेक्टरों को व्यापार की छूट नहीं थी,

लेकिन पलामू में ऑटोमोबाइल सेक्टर ने खुलकर धंधा किया. इस लॉकडाउन में जिले के विभिन्न शोरूम के माध्यम से करीब 46 सौ दो से चार चक्का वाहन सड़क पर उतरे. शोरूम मालिकों ने अपने शोरूम बंद कर गोदाम के माध्यम से वाहनों की बिक्री की.

चार हजार से अधिक वाहनों की बिक्री होने के बाद वाहन मालिक तो कमाई से गदगद हो गए हैं, लेकिन जिला परिवहन विभाग की इस मामले में नींद टूट चुकी है.

मामले में जिला परिवहन पदाधिकारी ने जिले के सभी शोरूम संचालकों से बिक्री का ब्यौरा उपलब्ध कराने को कहा है. पत्र की अवधि कल दिनांक 7 जून 2021 को संध्या 5 बजे समाप्त हो गयी, लेकिन किसी भी शोरूम संचालक ने अब तक विक्रय की सूची नहीं सौंपी है.

advt

इसे भी पढ़ें :दुनिया की कई बड़ी वेबसाइट हुई क्रश, ओपनिंग पेज पर दिखा ‘Error 503’; सोशल मीडिया पर खलबली

परिवहन कार्यालय के आदेश पत्र से शोरूम संचालकों में हड़कंप मचा हुआ है, क्योंकि अब पूरी गेंद जिला परिवहन पदाधिकारी के पाले में है.

इसे भी पढ़ें :करिश्माई स्ट्राइकर छेत्री ने मेसी को पछाड़ा, ऑल टाईम टॉप 10 से सिर्फ एक कदम पीछे 

ऐसे में बड़ा सवाल है कि लॉकडाउन में कटे सेल लैटर इंश्योरेंस के बाद क्या परिवहन विभाग ऑनर बुक रिलीज करेगा. सूत्र बताते हैं कि शोरूम संचालक जिला परिवहन पदाधिकारी को पटाने में लगे हैं.

इधर, सोशल एक्टिविस्ट इस पूरे मामले पर नजर रखे हुए हैं. उनका कहना है कि कपड़े, जूते सहित अन्य प्रतिबंधित दुकान फाइन भरें और शोरूम संचालकों ने 5000 वाहन सड़क पर उतार दिए और प्रशासन को भनक भी नहीं लगी. उन्होंने कहा कि आवश्यकता पड़ी तो मामले की उच्चस्तरीय जांच कराने की मांग भी की जाएगी.

जानी गयी वस्तुस्थिति

मंगलवार को न्यूज विंग संवाददाता ने इस पूरी वस्तुस्थिति का पता लगाने के लिए जिला परिवहन कार्यालय का दौरा किया, लेकिन कार्यालय में जिला परिवहन पदाधिकारी उपस्थित नहीं थे. ना ही डीलिंग क्लर्क सुमन कुमार सिंह.

हमने उन दोनों के दूरभाष संख्या पर संपर्क करने की कोशिश की, लेकिन दोनों (अधिकारी एवं कर्मचारी) का मोबाइल स्विच ऑफ मिला. समय तकरीबन दोपहर के 3.10 बजे का रहा.

इसे भी पढ़ें :रघुवर ने उठायी छठी जेपीएससी परीक्षा की सीबीआइ जांच की मांग

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: