Bihar

जनता दरबार में सीएम से नहीं मिल पाने पर मायूस फरियादी ने कहा- लालू प्रसाद के समय मिलने में नहीं होती थी समस्या

Patna : पटना में काफी समय के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने जनता दरबार (Janta darbar) लगाना शुरू किया है. लेकिन जनता के जिस दुख और दर्द को दूर करने के लिए यह दरबार लगाया जा रहा है उसमें अब लोगों को मुख्यमंत्री से मिलने में काफी परेशानियों का सामना भी करना पड़ रहा है. सोमवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का जनता दरबार फिर से लगा. काफी संख्या में बिहार के विभिन्न जिलों से लोग अपनी फरियाद लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मिलने पहुंचे. बता दें कि जनता दरबार का आज तीसरा दिन है लेकिन इसके बावजूद काफी संख्या में ऐसे लोग भी पहुंच रहे हैं, जिन्हें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बारे में कुछ भी मालूम ही नहीं है.

इसे भी पढ़ें – खगड़िया में डैनी मोइन में डूबने से मजदूर की मौत,परिजनों में मचा कोहराम

जब फरियादियों से न्यूजविंग के संवाददाता ने बातचीत की तो लोगों ने कहा कि उन्हें इस बारे में कोई जानकारी नहीं दी गयी. वहीं काफी संख्या में लोग मायूस बैठे नजर आये कुछ लोगों ने कहा कि पहले ऐसा नहीं होता था. हमने वोट देकर उन्हें मुख्यमंत्री बनाया है. उनसे मिलने के लिए इतना तामझाम नहीं होना चाहिए. वहीं लोगों ने कहा कि लालू प्रसाद यादव के समय में हम सीधे उनके घर जाते थे. कागज पर नाम लिख कर देते थे और उनसे मुलाकात हो जाती थी लेकिन आज के समय में कहा जा रहा है कि ऑनलाइन आवेदन करिये. एक महीना या कितने दिन के बाद मिलेंगे वह बाद में पता चलेगा. हमलोग को तो समझ नहीं आ रहा कि क्या करें, कैसे अपनी फरियाद मुख्यमंत्री तक पहुंचायें. ये बातें कह कर फरियादी काफी मायूस होकर लौटते नजर आये.

इसे भी पढ़ें – रांची : अतिक्रमण हटाने को लेकर 40 लोगों खटखटाया हाईकोर्ट का दरवाजा

Advt

Related Articles

Back to top button