न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दिवाली में आपके घर को सजाने के लिए तैयार हैं डिजाइनर रंगोली और वंदनवार

177

Ranchi : दीपों का त्योहार दिवाली निकट है. घरों से लेकर बाजार में भी दिवाली की ही रौनक देखी जा रही है. राजधानी में जगह-जगह इसे लेकर बाजार सजे हैं. इसमें दीया, खिलौने, लक्ष्मी गणेश आदि तो मिल रहे हैं, वहीं घर सजाने के लिए बाजार में इस वर्ष काफी कुछ नया है. इनमें अगर रंगोली और वंदनवार को छोड़ दिया जाये, तो शायद दिवाली ही अधूरी है. लोगों की जरूरत को ध्यान में रखते हुए इस बार बाजार में डिजाइनर रंगोली और वंदनवार देखे जा रहे हैं. राजधानी की कई पूजा दुकानों समेत मेला में भी ऐसे ही रंगोली और वंदनवार देखे जा रहे हैं. इनसे न सिर्फ घर को नया लुक मिलेगा, बल्कि इनका इस्तेमाल लंबे समय तक किया जा सकता है.

mi banner add

दिवाली में आपके घर को सजाने के लिए तैयार हैं डिजाइनर रंगोली और वंदनवार

इसे भी पढ़ें- रांची लोकसभा क्षेत्र का एक टोला, जहां सड़क नहीं, पेयजल नहीं, चुआं और झरने से प्यास बुझाते हैं…

पारंपरिक रंगोली से अलग है

डिजाइनर रंगोली की खासियत है कि यह पारंपरिक रंगोली से काफी अलग है. पारंपरिक रंगोली को जहां अबीर, रंग आदि से बनाया जाता है, वहीं डिजाइनर रंगोली बनी-बनायी मिल रही है. इन्हें सिर्फ आंगन या जहां भी रंगोली बनानी हो, वहां रख सकते हैं. बाजार में ये मेटल प्लेट की बनी बनायी मिल रही हैं, जिनमें गोटा, मोती, कृत्रिम फूल, जरी, नेट आदि से कारीगरी की गयी है. इनकी कीमत बाजार में 250 रुपये से 800 रुपये तक है.

इसे भी पढ़ें- जांच रिपोर्टः हाइकोर्ट भवन निर्माण के टेंडर में ही हुई घोर अनियमितता, क्या तत्कालीन सचिव राजबाला…

Related Posts

लोहरदगा : मुठभेड़ में JJMP के तीन उग्रवादियों को पुलिस ने किया ढेर, दो AK-47 बरामद

पुलिस के अनुसार कुछ और उग्रवादियों को गोली लगी है जिन्हें उनके साथी लेकर भागने में सफल रहे

कैंडल वाली रंगोली

कैंडल वाली रंगोली भी बाजार में मिल रही है. इसे सिर्फ रंगोली के स्थान पर रखना है और कैंडल जला देना है. आमतौर पर पारंपरिक रंगोली बनाने पर महिलाएं दीये जलाती हैं, जिससे कई बार दुर्घटनाएं हो जाती हैं. ऐसे में कैंडल वाली रंगोली में कैंडल स्टैंड लंबे होते हैं, जिनसे दुर्घटनाएं होने की संभावना कम है. रंगोली के साथ ही इनका उपयोग पूजा की थाली आदि में किया जा सकता है.

इसे भी पढ़ें- 80 बच्चों के बालाश्रय को नहीं मिल रहा सरकारी फंड, अब खुद के लिए श्रम कर रहे बच्चे

डिजाइनर वंदनवार है आकर्षक

बाजार में आकर्षक वंदनवार मिल रहे हैं. इनमें न सिर्फ गोटा, मोती आदि वर्क देखा जा रहा है, बल्कि यह पारंपरिक भी है. इससे इनमें स्वास्तिक, शुभ-लाभ, लक्ष्मी-गणेश, कलश आदि बने हुए हैं. वंदनवार के साथ बाजार में दरवाजों के लिए झूमर मिल रहे हैं. इनकी कीमत बाजार में 60 रुपये से शुरू होती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: