न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नीतीश को छोटा भाई समझते हुए लालू ने लिखा पत्र, कहा- लगता है तुम्हें उजालों से नफरत हो गयी है

1,139

Patna : राष्ट्रीय जनता दल (राजद) प्रमुख लालू प्रसाद ने कहा कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाईटेड का चुनाव चिन्ह तीर, हिंसा का पुराना प्रतीक है. चारा घोटाला मामले में झारखंड में सजा काट रहे पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि राजद का चुनाव चिन्ह लालटेन प्रेम और भाईचारे का प्रतीक है और इसलिए यह हमेशा प्रकाश फैलायेगा. प्रसाद ने यह टिप्पणी आम चुनाव के अंतिम चरण से पूर्व अपने चिर प्रतिद्वंदी कुमार को एक लिखे खुले पत्र में की है.

इसे भी पढ़ेंःरातू के सिमलिया में युवक की धारदार हथियार से मारकर हत्या

लालू के दिन लद गए को लेकर पलटवार

वह नीतीश के चुनावी रैलियों में बार-बार कहे गए रूपक कि ‘लालटेन के दिन लद गए’ को लेकर पलटवार कर रहे थे. इस रूपक के दो आशय समझे गए, एक यह कि बिहार में बिजली आपूर्ति में सुधार हुआ है और दूसरा यह कि कथित तौर पर राज्य में राजद का राजनीतिक पराभव हुआ है.

जद(यू) प्रमुख नीतीश कुमार को छोटे भाई संबोधित करते हुये प्रसाद ने कहा कि ऐसा प्रतीत हो रहा है कि तुम्हें (नीतीश को) आजकल उजालों से कुछ ज्यादा ही नफरत सी हो गयी है.

दिनभर लालू और उसकी लौ लालटेन-लालटेन का जाप करते रहते हो. तुम्हें पता है कि नहीं, लालटेन प्रकाश और रोशनी का पर्याय है. मोहब्बत और भाईचारे का प्रतीक है. गरीबों के जीवन से तिमिर हटाने का उपकरण है.

सोशल मीडिया पर भी जारी इस पत्र में उन्होंने कहा कि हमने लालटेन के प्रकाश से गैरबराबरी, नफरत, अत्याचार और अन्याय का अंधेरा दूर भगाया है और भगाते रहेंगे. तुम्हारा चिह्न तीर तो हिंसा फैलाने वाला हथियार है. मार-काट व हिंसा का पर्याय और प्रतीक है.

इसे भी पढ़ेंःPM मोदी 15 मई को देवघर में करेंगे जनसभा, पांच IPS व 37 DSP संभालेंगे सुरक्षा की कमान

जनता को लालटेन की जरूरत हर परिस्थिति में होती है : लालू

पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि याद रखो कि जनता को लालटेन की जरूरत हर परिस्थिति में होती है. प्रकाश तो दीये का भी होता है. लालटेन का भी होता है और बल्ब का भी होता है.

बल्ब की रोशनी से तुम बेरोजगारी, उत्पीड़न, घृणा, अत्याचार, अन्याय और असमानता का अंधेरा नहीं हटा सकते इसके लिए मोहब्बत के साथ खुले दिल और दिमाग से दीया जलाना होता है.

समानता, शांति, प्रेम और न्याय दिलाने के लिए ख़ुद को ‘दीया और बाती’ बनना पड़ता है. समझौतों को दरकिनार कर जातिवादी, मनुवादी और नफ़रती आँधियों से उलझते व जूझते हुए ख़ुद को निरंतर जलाए रहना पड़ता है.

प्रसाद ने आरोप लगाते हुये लिखा कि नीतश तुम क्या जानो इन सब वैचारिक और सैद्धांतिक उसूलों को. डरकर शॉर्टकट ढूंढना और अवसर देख समझौते करना तुम्हारी बहुत पुरानी आदत रही है. उनका इशारा परोक्ष रूप से दो साल पहले राजद और कांग्रेस गठबंधन से जदयू के निकलने और भाजपा में शामिल होने की ओर था.

तुम अब कीचड़ वाले फूल में तीर घोंपो या छुपाओ. तुम्हारी मर्जी..

लालू ने जदयू के चुनाव चिन्ह ‘तीर’ का उल्लेख करते हुये कटाक्ष किया कि तुम कहां मिसाइल के जमाने में तीर-तीर किए जा रहे हो? तीर का जमाना अब लद गया. तीर अब संग्रहालय में ही दिखेगा.

लालटेन तो हर जगह जलती दिखेगी और पहले से अधिक जलती हुयी मिलेगी क्योंकि 11 करोड़ गरीब जनता की पीठ में तुमने विश्वासघाती तीर ही ऐसे घोंपे है. बाकी तुम अब कीचड़ वाले फूल में तीर घोंपो या छुपाओ. तुम्हारी मर्जी..

वहीं इस घटना पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुये जदयू के प्रवक्ता संजय सिंह ने कहा कि जेल में बंद किसी व्यक्ति का पत्र लिखना जेल नियम पुस्तिका का उल्लंघन है. रांची जेल प्रशासन को इस पर संज्ञान लेकर उचित कार्रवाई करनी चाहिये.

Related Posts

RSS समेत 19 हिंदुवादी संगठनों की जानकारी जुटायेगी बिहार पुलिस

सामने आया स्पेशल ब्रांच के एसपी का लेटर

mi banner add

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: