न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

आजसू सुप्रीमो सुदेश महतो के करीबी रहे दीपक वर्मा पर विभागीय कार्रवाई शुरू

योजना और वित्त विभाग में पोस्टेड, फिलहाल हैं सस्पेंड

301

Ranchi: आजसू पार्टी सुप्रीमो सुदेश महतो के करीबी रहे दीपक वर्मा पर राज्य सरकार की तरफ से विभागीय कार्रवाई शुरू हो गयी है. झारखंड सचिवालय आशुलिपिक सेवा संवर्ग के कर्मचारी दीपक वर्मा पहले पथ निर्माण विभाग में थे. उस समय श्री महतो पथ निर्माण, जल संसाधन विभाग, गृह विभाग के कार्यकलापों को देखते थे. विभागीय मंत्री के सेल में दीपक वर्मा ने अपनी पोस्टिंग करा रखी थी. इन पर अपने सहोदर भाई अजय वर्मा के साथ मिल कर बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के लिए अधिगृहित की जानेवाली जमीन मामले पर दूसरे रैयत की जमीन के एवज में करोड़ों रुपये का मुआवजा हड़प लेने का आरोप चल रहा है. एक मामले में दीपक वर्मा ने हेथू मौजा के खाता संख्‍या के तहत 20 लाख 38 हजार रुपये की मुआवजा राशि की जालसाजी कर ली. यह राशि रेखा देवी को मिलनी थी. एक मामले में दीपक वर्मा ने हेथू मौजा के खाता संख्‍या के तहत 20 लाख 38 हजार रुपये की मुआवजा राशि की जालसाजी कर ली. यह राशि रेखा देवी को मिलनी थी. यह रिपोर्ट तत्‍कालीन भू-अर्जन पदाधिकारी सुरजीत सिंह ने उपायुक्‍त को सौंपी थी. इस पर भी उपायुक्‍त ने कार्रवाई की अनुशंसा की थी. इतना ही नहीं राजधानी के उपायुक्त की 22.12.2017 को भेजी गयी रिपोर्ट के आधार पर राज्य सरकार की तरफ से आरोप पत्र गठित किया गया. नौ जनवरी 2018 को प्रपत्र क के तहत आरोप पत्र गठित करते हुए विभागीय कार्रवाई शुरू की गयी है.

इसे भी पढ़ें- ट्रैफिक पुलिस ने ऑटो से की भारी मात्रा में अवैध शराब बरामद, फिर से पनप रहा है कारोबार

24.9.2018 को निलंबित हो चुके हैं दीपक वर्मा

योजना एवं वित्त विभाग में आप्त सचिव के पद पर पोस्टेड दीपक वर्मा को सरकार की तरफ से 24.9.2018 को ही निलंबित कर दिया गया था. इनके खिलाफ लगे आरोपों को सही पाते हुए राज्य सरकार ने सेवानिवृत आइएएस अफसर विनोद चंद्र झा को जांच पदाधिकारी नियुक्त किया है. जांच पदाधिकारी को सहयोग करने के लिए जिला भू अर्जन पदाधिकारी को भी नामित किया गया है. आरोपी आप्त सचिव दीपक वर्मा को उनके खिलाफ लगे आरोपों के बाबत स्पष्टीकरण देने और दस्तावेज उपलब्ध कराने का निर्देश भी दिया गया है.

इसे भी पढ़ें – JPSC मुख्य परीक्षा पर संशय, परीक्षा हुई तो 2 लाख 7 हजार 804 कॉपियां चेक में लगेगा कितना वक्त !

हिनू के साकेत नगर में रहते हैं दीपक वर्मा

राजधानी के हिनू स्थित साकेत नगर में दीपक वर्मा अपने भाई अजय वर्मा के साथ रहते हैं. इन पर विवादित जमीन पर आलीशान मकान बनाने का भी मामला है. इतना ही नहीं बिरसा मुंडा एयरपोर्ट के लिए राजधानी के हेथू गांव में ली गयी जमीन के कुछ रैयतों के नाम पर गलत तरीके से मुआवजा लिये जाने में इनकी सक्रिय भूमिका रही है. जमीन अधिग्रहण के समय आजसू सुप्रीमो राज्य सरकार में उप मुख्यमंत्री भी रह चुके हैं. इसी का लाभ उठाते हुए दीपक वर्मा ने कई गड़बड़ियां भी की. इनकी कारगुजारियों को लेकर लोकायुक्त कार्यालय में भी मामला चल रहा है. इतना ही नहीं इन लोगों की तरफ से आरव इंडेन नामक इंडियन ऑयल की एजेंसी भी चलायी जा रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: