न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

CM का विभाग : 441.22 करोड़ का घोटाला, अफसरों ने गटका अचार और पत्तों का भी पैसा

एजी की रिपोर्ट में खुलासा, बंबू मिशन, जनश्री योजना, आचार बनाने में हुई है भारी गड़बड़ी, ठेकेदारों को पहुंचाया गया फायदा

6,302

Ravi  Aditya

Ranchi: मुख्यमंत्री के अधीन विभाग झारखंड राज्य वन विकास निगम में 441.22 करोड़ रुपये के घोटाला हुआ है. इसका खुलासा एजी की रिपोर्ट में हुआ है. वन विभाग के अफसरों में बांस का अचार बनाने, बांस की साइकिल बनाने, बंबू मिशन, जनश्री बीमा योजना में भारी अनियमितता बरती गयी है. एजी ने अपने पत्र संख्या B/105 में इसका उल्लेख किया है. वहीं केंदू पत्ता की बिक्री में भी भारी गड़बड़ी का उल्लेख इस पत्र में किया गया है. रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि झारखंड राज्य वन विकास निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक ने अनियमित रूप से ठेकेदारों को फायदा पहुंचाया है. इसकी रिपोर्ट वन विभाग के तत्कालीन प्रधान सचिव को भी एजी ने सौंपा था.

इसे भी पढ़ें – पाकुड़ समाहरणालय से लेकर तमाम शहर में डीसी के खिलाफ आजसू की पोस्टरबाजी, कहा – डीसी साहब जनता के सवालों का दें जवाब

कम निर्धारित की गई थी कीमत

झारखंड राज्य वन विकास निगम के पूर्व प्रबंध निदेशक बीआर रल्लन ने केंदू पत्ता का दर निर्धारण करते समय बाजार मूल्य की अनदेखी की. निर्धारित दर से कम कीमत में केंदू पत्ता का दर निर्धारित किया. इससे झारखंड राज्य वन विकास निगम को काफी नुकसान हुआ.

इसे भी पढ़ें – 140  IAS और 60 IFS बायोमिट्रिक से नहीं बनाते हैं हाजिरी, राज्य प्रशासनिक सेवा अफसरों ने भी छोड़ा हाजिरी बनाना

आइएफबी को बनाया गया था परामर्शी

झारखंड राज्य वन विकास निगम ने इंस्टीट्यूट ऑफ फॉरेस्ट प्रोडक्टिविटी (आइएफबी) को परामर्शी बनाया था. परामर्शी ने अपने सर्वे रिपोर्ट में बताया कि केंदू पत्ता का उत्पादन अधिसूचित उत्पादन से अधिक हो सकता है. इसके बावजूद केंदू पत्ता का उत्पादन कम दर्शाया गया.

इसे भी पढ़ें – सीएम चाचा रोज ही लुटती है हमारी इज्जत, कभी मालिक तो कभी साहेब रात में नोचते हैं, बचाइए ना हमें

ठेकेदारों को निगम ने पहुंचाया फायदा

silk_park

झारखंड राज्य वन विकास निगम में कम उत्पादन दिखाकर ठेकेदारों को फायदा पहुंचाया. केंदू पत्ता की बिक्री नहीं होने के कारण निगम को 15.32 करोड़ रुपये का घाटा भी हुआ. इस मामले की लीपापोती की जा रही है. एजी ने अपनी रिपोर्ट में पूरे चरणबद्ध तरीके से घोटाले का जिक्र किया है.

इसे भी पढ़ें – NEWS WING IMPACT: आदिवासी महिलाओं के साथ दरिंदगी करने वाले क्रशर मालिकों का क्रशर सील

रिपोर्ट में इन चीजों पर है आपत्ति

बांस की साइकिल बनाने की योजना में हुई है हेरा-फेरी

बांस का अचार बनाने की योजना में हुआ है घोटाला

बंबू मिशन में लाखों का हुआ  है घोटाला

जनश्री बीमा योजना में राशि की हुई अनियमितता

केंदू पत्ता बिक्री में है गड़बड़झाला

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: