DeogharJharkhand

देवघर होगा तम्बाकू व धुम्रपान मुक्त शहर

  • उपायुक्त के नेतृत्व में शुरू हुआ रोको-टोको अभियान
  • अभियान का उद्देश्य लोगों को तम्बाकू व धुम्रपान के उपयोग से होने वाले नुकसानों से अवगत करानाः उपायुक्त
  • सार्वजनिक स्थलों पर तम्बाकू व धुम्रपान करने वाले लोगों से वसुला गया जुर्माना

Deoghar: बाबा नगरी देवघर को तम्बाकू व धूम्रपान मुक्त बनाने को लेकर शुक्रवार को उपायुक्त मंजूनाथ भजंत्री द्वारा टावर चौक के समीप रोको-टोको जागरुकता अभियान का शुभारंभ किया गया.

इस दौरान लोगों को जागरूक व सचेत करने के उद्देश्य से उपायुक्त की उपस्थिति में गठित टीम व भोलेनाथ के दूतों द्वारा अभियान के माध्यम से तम्बाकू व धुम्रपान के प्रति लोगों को जागरूक करते हुए जूर्माना वसूला गया.

अभियान के दौरान उपायुक्त द्वारा तम्बाकू खा रहे लोगों को जागरूक करते हुए कहा कि सार्वजनिक जगहों पर सभी तरह के तम्बाकू उत्पादों यथा सिगरेट, बीड़ी, पान मसाला, हुक्का, खैनी, जर्दा, गुटका और इलेक्ट्रॉनिक सिगरेट के उपयोग पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध है. वर्तमान में पान मसाला, खैनी, जर्दा और गुटका खाकर यत्र तत्र थूकने से कोरोना वायरस फैलने का खतरा बढ़ता है. ऐसे में सार्वजनिक जगहों पर तम्बाकू पदार्थों के सेवन पर प्रतिबंध लगाया गया है.

Sanjeevani

उपायुक्त ने बताया कि तंबाकू का सेवन स्वास्थ्य के लिए बड़े खतरों में से एक है. थूकना एक सार्वजनिक स्वास्थ्य खतरा है और संचारी रोग के फैलने का एक प्रमुख कारण है. तंबाकू सेवन करने वालों की प्रवृति यत्र-तत्र थूकने की होती है. थूकने के कारण कोरोना, इंसेफलाइटिस, यक्ष्मा, स्वाइन फ्लू आदि कई गंभीर बीमारी होती है.

संक्रमण फैलने की आशंका के साथ धुम्रपान के कारण रोग-प्रतिरोधी क्षमता के क्षरण से भी इसके संक्रमण की संभावना बढ़ जाती है. सभी से आग्रह करते हुए उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में तम्बाकू से सेवन से प्रतिवर्ष भारत में 9 लाख लोगों की मृत्यु होती है.

आंकड़े के अनुसार हमारे देश में रोजाना 5500 युवक तम्बाकू का सेवन शुरू करते है. ऐसे में बाबा नगरी को तम्बाकू व धुम्रपान मुक्त बनाने की दिशा में जिले के सभी वर्गों का सहयोग आपेक्षित है. युवाओं का परम कर्तव्य बनता है कि वे इस लत से दूर रहें और बच्चों की भी निगरानी करें.

युवकों को चाहिए कि तम्बाकू व धुम्रपान के दलदल से बचकर समाज व देश की उन्नति में अपना हर संभव सहयोग करें. इस दौरान जिला जनसम्पर्क पदाधिकारी रवि कुमार सहित अन्य लोग उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें : झारखंड टेक्निकल यूनिवर्सिटी में अब दो साल का होगा एमसीए, बीसीए और बीबीए कोर्स भी होगा शुरू

भोलेनाथ के दूतों को मिलेगा प्रोत्साहन राशि

अभियान के दौरान उपायुक्त ने मीडिया से बातचीत करते हुए कहा कि शहर को तम्बाकू व ध्रुमपान मुक्त बनाने में भोलेनाथ के दूतों का सहारा लिया जा रहा है. इसमें उनके द्वारा जितने लोग को पकड़ के जागरूक कर जुर्माना दिलाया जाएगा. उस जुर्माना राशि का 20 प्रतिशत राशि भोलेनाथ के दूतों को प्रोत्साहन राशि के रूप दिया जाएगा.

इसे भी पढ़ें : रिंकू शर्मा मर्डर केस: जिसकी पत्नी को दिया था खून, वह भी हत्या के आरोपियों में शामिल

Related Articles

Back to top button