Crime NewsDeogharJharkhand

देवघर : जिले के पांच थाना क्षेत्रों से साइबर अपराध के 18 आरोपी गिरफ्तार

Deoghar : पुलिस ने जिले के अलग-अलग थाना क्षेत्रों से साइबर अपराध के कुल 18 आरोपियों को गिरफ्तार किया है. इन आरोपियों को जिले के सारठ, मारगोमुंडा, पथरौल, मधुपुर और करौं थाना क्षेत्रों के विभिन्न गांवों से बुधवार की रात को गिरफ्तार किया गया है. एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा को प्राप्त गुप्त सूचना के आधार पर गठित छापामारी टीम ने इन आरोपियों को गिरफ्तार किया.

ये आरोपी हुए हैं गिरफ्तार

गिरफ्तार आरोपियों में पथरौल बड़ा संघरा गांव निवासी संतोष दास, सिकंदर दास, रोहित दास, गोनेया गांव के दीनदयाल दास, मधुपुर थाना क्षेत्र के मोहनपुर गांव निवासी संतोष कुमार दास, पसिया गांव के कुंदन कुमार दास, सारठ थाना के पथरड्डा ओपी क्षेत्र के चोरमारा अरुण कुमार दास, गोबरशाला गांव के रोहित महरा, मारगोमुंडा थाना क्षेत्र के पंचरुखी गांव निवासी इजहार अंसारी, करौं थाना क्षेत्र के तुलसीटांड़ निवासी नीरज यादव, पथरड्डा ओपी के बसहाटांड़ के कलीमुद्दीन अंसारी उर्फ कुटकाहा, मुख्तार अंसारी, पकरिया गांव के सहरुद्दीन खान, मारगोमुंडा थाना क्षेत्र के मुरलीपहाड़ी गांव के वसीम अंसारी, रईस कौसर, इरशाद अंसारी, बरकत अंसारी व शरीफ अंसारी शामिल हैं.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें : न्यू इयर गिफ्ट: IRCTC की नयी वेबसाइट लांच, अब आसान और फास्ट होगा टिकट बुक करना

The Royal’s
Sanjeevani
Pitambara
Pushpanjali

ये सामान हुए बरामद

छापामारी के क्रम में गिरफ्तार आरोपियों के पास से पुलिस ने 21 मोबाइल फोन, 30 सिमकार्ड, पांच एटीएम कार्ड, आठ बैंक पासबुक, तीन चेकबुक, दो बाइक और तीन चारपहिया वाहन (एक-एक स्कॉर्पियो, आल्टो और सैंट्रो कार)बरामद किये गये हैं.

20 प्रतिशत कमीशन लेता था एक आरोपी

एसपी अश्विनी कुमार सिन्हा ने बताया कि उन्हें गुप्त सूचना मिली थी कि उपरोक्त गांव के कुछ युवा भोले-भाले लोगों को फर्जी बैंक अधिकारी बनकर और अन्य कई तरीकों से आम सहायता पहुंचाने के नाम पर उनसे उनके बैंक खाते से संबंधित जानकारी प्राप्त कर लोगों को ठगी का शिकार बनाने का कार्य कर रहे हैं.

सूचना मिलने के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए एक विशेष छापामारी टीम का गठन कर आरोपियों की गिरफ्तारी की गयी. एसपी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों में से एक दीनदयाल दास मधुपुर थाना में दर्ज मोबाइल चोरी के केस में पूर्व में जेल गया था.

वह फर्जी मुहर बनाकर साइबर अपराधियों को फर्जी नोटिस जारी करता था और साइबर अपराधियों से 20 प्रतिशत कमीशन की वसूली करता था.

साथ ही साइबर पुलिस की छापामारी की सूचना साइबर अपराधियों को देता था. इसके पास से पुलिस ने एक सैंट्रो कार बरामद की है. इसके अलावा कलीमुद्दीन अंसारी पूर्व के एक मामले में वांछित आरोपी है.

साइबर थाना पुलिस ने छापामारी के क्रम में स्कॉर्पियो वाहन सहरुद्दीन खान व आल्टो कार को संतोष कुमार दास के पास से बरामद किया है. एसपी ने बताया कि पुलिस मामले की तह तक पहुंचने व साइबर अपराध की रोकथाम को लेकर लगातार छापामारी अभियान चला रही है.

इसे भी पढ़ें : केंद्र ने झारखंड को नहीं दिये 23,000 करोड़, फिर भी हेमंत सरकार से मांग रहा हिसाबः राजद

Related Articles

Back to top button