न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मंडल डैम निर्माण के विरोध में आदिम जनजाति परिषद का प्रदर्शन

26

Palamu : 47 वर्ष से अधूरी पड़ी उतरी कोयल परियोजना (मंडल डैम) के निर्माण में अभी बाधाएं पूरी तरह दूर नहीं हो पायी हैं. डूब क्षेत्र में आने वाले गांवों के आदिम जन जातियों इस विस्तारिक परियोजना के खिलाफ दिख रहे हैं. सोमवार की दोपहर उनका आक्रोश सड़कों पर नजर आया. बड़ी संख्या में जन जातियों ने मंडल डैम निर्माण के विरोध में पलामू समाहरणालय का घेराव किया.

सैकड़ों लोगों ने किया प्रदर्शन

भारतीय आदिम जनजाति विकास परिषद और भारतीय महादलित विकास परिषद के बैनर तले परिषद के सुप्रीमो उमाशंकर बैगा ब्यास के नेतृत्व में सैकड़ों लोगों ने पलामू के उपायुक्त कार्यालय के समक्ष जोरदार प्रदर्शन किया. मौके पर आदिम जनजातियों ने कहा कि मंडल डैम का दोबारा शिलान्यास किया जाना भाजपा का चुनावी स्टंट है. झूठे वादे और जुमलों के साथ भाजपा चुनाव में जनता के पास आ रही है. मंडल डैम से 30 गांव डूबेंगे. 25 से 30 हजार लोग विस्थापित होंगे. सबसे महत्वपूर्ण बात तो यह है कि शहीद नीलांबर-पीतांबर का गांव भी डूब जाएगा. इसलिए किसी कीमत पर मंडल डैम का निर्माण नहीं होने देंगे. भाजपा की सरकार जबरदस्ती निर्माण कार्य कराना चाहती है, जिसे डूब क्षेत्र की जनता नाकाम कर देगी.

किसी कीमत पर नहीं बनने देंगे मंडल डैम:उमाशंकर बैगा

मौके पर परिषद के अध्यक्ष उमाशंकर बैगा ने कहा कि झारखंड के मुख्यमंत्री जनता को छल रहे हैं. मंडल डैम से पानी झारखंड के किसानों को नहीं, बल्कि बिहार के किसानों को मिलेगा. पलामू, गढ़वा, लातेहार जैसे सूखाग्रस्त क्षेत्र के किसानों के छाती से गुजरकर पानी बिहार के खेतों को हरियाली लाएगा. जमीन झारखंड का जाएगा, गांव झारखंड के उजड़ेंगे और मजा मारेंगे बिहारी. झारखंड के किसान और गरीब अनुसूचित जाति एवं जनजाति के लोग विस्थापित होंगे, लेकिन पानी बिहार को मिलेगा. डैम से पलामू प्रमंडल में खुशहाली नहीं आएगी.

लगे पीएम-सीएम विरोधी नारे

इसके पूर्व जुलूस में शामिल सैकड़ों लोगों ने ‘रघुबर दास हाय-हाय’ और ‘नरेंद्र मोदी हाय-हाय’ के विरोधी नारे लगा रहे थे. विदित हो कि दो दिन पूर्व डालटनगंज के चियांकी हवाई अड्डा पर समारोह के दौरान प्रधानमंत्र नरेंद्र मोदी ने उतरी कोयल परियोजना सहित आधा दर्जन सिंचाई योजनाओं का शिलान्यास किया था.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: