न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोकतंत्र को लाठीतंत्र में बदल रही है भाजपा : गीता कोड़ा

46

Ranchi/Chaibasa: हाल ही में कांग्रेस पार्टी में शामिल हुईं जगन्नाथपुर विधायक गीता कोड़ा ने कांग्रेस के बैनर तले सरकार विरोधी आंदोलन को तेज कर दिया है. उन्होंने कहा है कि स्थापना दिवस के दौरान अपनी मांगों के समर्थन में उतरे पारा शिक्षकों पर सरकार ने जिस तरह बर्बरतापूर्ण लाठीचार्ज किया, उससे सरकार का तानाशाही रवैया उजागर होने लगा है. इसके विरोध में कांग्रेस विधायक के नेतृत्व में शनिवार को जगन्नाथपुर प्रखंड मुख्यालय में कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने सीएम मुख्यमंत्री रघुवर दास का पुतला दहन किया.

इसे भी पढ़ें – राज्य के 70 हजार पारा टीचर गोलबंद: अब आर-पार की लड़ाई, सरकारी आदेश दरकिनार कर 20 से जेल भरो आंदोलन

सरकार विरोधी गतिविधियों की विपक्ष ने की थी निंदा

मालूम हो कि गत 15 नवंबर को मोरहाबादी में आयोजित राज्य स्थापना दिवस के दौरान अपनी मांगों को लेकर पारा शिक्षकों ने सरकार विरोधी नारेबाजी कर काला झंडा दिखाने का काम किया था. इस पर वहां तैनात पुलिसकर्मियों ने पारा शिक्षकों पर लाठियां बरसायीं और आंसू गैस के गोले भी छोड़े थे. जिससे दर्जनों पारा शिक्षक घायल हो गए थे. सरकार के इस रवैये के विरोध में तमाम विपक्षी पार्टियों ने सरकार का पुतला दहन किया था. वहीं शनिवार को एक प्रेस वार्ता में कांग्रेस ने 19 नवंबर को काला बिल्ला लगाकर सरकार विरोधी धरना प्रदर्शन करने का ऐलान किया है.

इसे भी पढ़ें – धनबादः सड़क चौड़ीकरण के नाम पर काटे 416 पेड़, अब हो रही खानापूर्ति

दोषी पदाधिकारियों पर सरकार करे अविलंब कार्रवाई

पुतला दहन के बाद मीडिया को संबोधित करते हुए विधायक ने कहा कि भाजपा लोकतंत्र को लाठीतंत्र में बदल रही है. किसी भी राज्य का स्थापना दिवस विशेषतः राज्य की जनता के लिए मनाया जाता है. लेकिन दुर्भाग्य है कि शिक्षा का अलख जगानेवाले पारा शिक्षकों को राज्य सरकार मरवा रही है. उन्होंने कहा कि सरकार का चाहिए कि लाठीचार्ज में दोषी पदाधिकारियों के खिलाफ सरकार अविलंब निर्णय लें तथा उनपर सख्त कार्रवाई करें. ऐसा नहीं होने पर कांग्रेस पार्टी सरकार के तानाशाही रवैए को जनता के समक्ष लाने का काम करेगी. उन्होंने कहा कि इन चार सालों में रघुवर राज में झारखंड का सिर शर्म से कई बार झुका है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: