न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

विधायक शिवपूजन की मांग – इंटर कॉलेजों में सीटें नहीं बढ़ायी गयीं तो सत्र चलने तक देंगे धरना

655

Ranchi : राज्य में शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ़ करने को लेकर सरकार लगातार दावे कर रही है. बावजूद इसके दिन-प्रतिदिन शिक्षा व्यवस्था में खामियां सामने आ रही हैं. इसे लेकर विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने बताया कि पलामू जिला के हुसैनाबाद में शहीद भगत सिंह इंटर कॉलेज जपला में पिछले चार साल से इंटर में 3456 सीटों पर पढ़ाई होती थी. अब सरकार ने उस कॉलेज के 2298 सीटों को घटा दिया है.अब इस कॉलेज में 3456 सीटों के बजाय मात्र 1152 सीटों पर ही इंटर में छात्रों का नामांकन हो पायेगा.

इसे लेकर अब हुसैनाबाद के विधायक ने सभी स्थायी प्रस्वीकृति प्राप्त इंटर कॉलेजों में पहले की ही तरह सीट रखने की मांग की है. अगर सरकार इसे नहीं मानती है तो विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता विधानसभा के मॉनसून सत्र तक धरने पर बैठेंगे.

इसे भी पढ़ें – मोदी सरकार के 50 दिन पूरे, शेयर बाजार में निवेशकों के 12 लाख करोड़ डूबे       

बढ़ जाएगी ड्रॉपआउट छात्रों की संख्या

विधायक का कहना है कि अगर इंटर कॉलेजों की सीटों में इजाफा नहीं होता है, तो ड्रॉपआउट छात्रों की संख्या काफी बढ़ जाएगी. विधायक ने शैक्षणिक माहौल तैयार करने के साथ ही छात्र-छात्राओं को ड्रॉपआउट से बचाने की मांग उठायी है.

SMILE

विधायक की मांग है कि सभी स्थायी प्रस्वीकृत कॉलेजों में कारगार कदम उठाकर पहले की ही तरह सीटों को बढ़ाया जाये. शिवपूजन कुशवाहा ने शिक्षा मंत्री नीरा यादव को 17 जुलाई को ही पत्र लिखकर इस दिशा में कार्यवाही करने का आग्रह किया था.

छात्रों के भविष्य से खेल रही सरकार

विधायक कुशवाहा शिवपूजन मेहता ने कहा कि विभाग के उच्च अधिकारियों की अदूरदर्शिता और गरीब विरोधी होने की वजह से ही छात्रों का भविष्य दांव पर है. साथ ही कहा मैट्रिक पास सभी छात्र- छात्राओं के पढ़ने की व्यवस्था सरकार के द्वारा नहीं किया गया है.

इसके बावजूद सरकार ने ऐसे कॉलेजों की सीटें घटा दी हैं. पलामू के भगत सिंह इंटर कॉलेज जपला में पहले कला और विज्ञान संकाय में 1408, 1408 सीटें थी. वहीं वाणिज्य में 640 सीटें थीं. जिसे अब घटाकर सभी संकाय में 384, 384 सीटें कर दी गयी हैं.

इसे भी पढ़ें –न्यूज विंग की खबर पर BJP की प्रेस वार्ता, कहा- आदिवासियों को आगे कर मिशनरी संस्थाएं हड़प रही हैं जमीन

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: