न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संविधान की प्रति जलानेवालों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

286

Ranchi : संविधान बचाओ, भारत बचाओ नारे के साथ रांची के बिरसा मुंडा समाधि स्थल पर अनुसूचित जाति-जनजाति एवं पिछड़ा वर्ग युवा रांची झारखंड के बैनर तले शुक्रवार को धरना और उपवास का कार्यक्रम आयोजित किया गया. इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में आदिवासी पिछड़ा और दलित समुदाय के युवाओं ने हिस्सा लिया. उपवास कार्यक्रम में वक्ताओं ने कहा जिस तरीके से दिल्ली में 9 अगस्त को भारतीय संविधान की प्रति जलायी गयी, उससे यह प्रतीत होता है कि देश में संविधान बदलने की साजिश की जा रही है. पिछड़ों, दलितों और आदिवासियों के अधिकार को समाप्त करने की मनुवादियों की सोची-समझी साजिश चल रही है, जिसे आदिवासी दलित और पिछड़ा वर्ग के युवा किसी भी कीमत पर पूरा नहीं होने देंगे.

संविधान की प्रति जलानेवालों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

इसे भी पढ़ें- कांग्रेस का नया चुनावी नारा- आदिवासी विरोधी है रघुवर सरकार

hosp3

पांचवीं अनुसूची के अधिकारों को लागू करने परहेज कर रही सरकार

वहीं, झारखंड के परिप्रेक्ष्य में बोलते हुए वक्ताओं ने कहा राज्य सरकार राज्य में आदिवासी इलाकों में पांचवीं अनुसूची के अधिकारों को सरकार लागू करने से परहेज कर रही है. सत्ता में बैठे लोग नहीं चाहते हैं कि आदिवासी, दलित और पिछड़ों को अधिकार मिले. इसी के तहत पांचवीं अनुसूची का पालन हो, इसकी मांग करनेवालों को राज्य में जेलों में डाला जा रहा है. वहीं, संविधान की को जलानेवालों पर किसी भी तरह कार्रवाई नहीं होना सरकार के नजरिये को दर्शाता है. वक्ताओं ने कहा कि आज झारखंड के आदिवासी, दलित और पिछड़े युवा अपने अधिकारों को जान गये हैं और सरकार की दमनकारी नीतियों के खिलाफ आवाज उठाने लगे हैं. इससे केंद्र और राज्य सरकारें घबरा गयी हैं.

संविधान की प्रति जलानेवालों पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज करने की मांग

इसे भी पढ़ें- रांची : शनिवार को राजभवन के पास जुटेंगे प्रशांत भूषण, मेधा पाटकर और स्वामी अग्निवेश समेत कई सामाजिक…

आदिवासी छात्र युवा मोर्चा के अध्यक्ष अजय कपूर ने कहा कि युवाओं को बाबासाहेब अंबेडकर, वीर बिरसा मुंडा के पदचिह्नों पर चलते हुए झारखंड और देश को संवारने के साथ-साथ राष्ट्र विरोधियों के खिलाफ खड़ा होने की आवश्यकता है. इसमें झारखंड के युवा पीछे नहीं रहेंगे. उपवास और धरने को संबोधित करते हुए वक्ताओं ने एक सुर में कहा कि संविधान की प्रति जलानेवाले लोगों पर देशद्रोह के तहत मुकदमा किये जायें, साथ ही सरकार ऐसे तत्वों को चिह्नित कर कठोर दंड दे. इस अवसर पर कार्यक्रम में केंद्रीय सरना समिति के अध्यक्ष अजय तिर्की मोती कश्यप, आदिवासी छात्र मोर्चा के अजय टोप्पो, आकाश तिर्की, सोनिया तिग्गा, मनोज संजय, एल्विन लकड़ा, विकास मौजूद थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: