National

ढाई महीने में 76 बच्चों को खोज निकाला दिल्ली की हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका ने , इनाम में मिला प्रमोशन और शाबाशी…  

हम एक छोटे से गांव में गये.  बाढ़ के दौरान दो नदियों को पार किया. हम किसी तरह बच्चे को उसके रिश्तेदार के पास से छुड़ाने में कामयाब रहे.

 NewDelhi :  विभिन्न राज्यों के 76 बच्चों को  बचाने वाली दिल्ली के समयपुर बादली पुलिस थाने में तैनात महिला हेड कॉन्स्टेबल सीमा ढाका  को आउट-ऑफ-टर्न प्रमोशन दिया गया है. खबर है कि सीमा ढाका  को उनकी कार्य निष्ठा और ईमानदारी को देखते हुए उच्चाधिकारियों ने आउट-ऑफ-टर्न प्रमोशन देने का फैसला किया.

जानकारी के अनुसार सीमा ढाका ने जिन 76 बच्चों को ढूंढा है, उनमें 56 की उम्र 14 साल से भी कम है. सीमा ढाका  ने 76 बच्चों को ढाई महीने में ही ढूंढ निकाला.

दिल्ली पुलिस कमिश्नर एनएन श्रीवास्तव ने सीमा ढाका को इन्सेंटिव स्कीम के तहत आउट-ऑफ-टर्न प्रमोशन देने की घोषणा की. इस स्कीम के तहत सीमा आउट ऑफ टर्न प्रमोशन पाने वाली दिल्ली पुलिस की पहली कर्मचारी बन गयी हैं.

इसे भी पढ़ें : सरकार ने कहा, सुदर्शन टीवी के बिंदास बोल ने नियम तोड़ा, सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई आज

दिल्ली, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और पंजाब के बच्चों को बचाया

सीमा ढाका ने बताया कि उसने दिल्ली, पश्चिम बंगाल, उत्तर प्रदेश, बिहार, हरियाणा और पंजाब के बच्चों को बचाया है. वह महीनों से ऐसे मामलों पर काम कर रही थी और कहा कि उसके वरिष्ठों ने उसे और अधिक मामलों को सुलझाने और परिवारों की मदद करने के लिए प्रेरित किया.

ढाका ने कहा कि मेरे सीनियर्स और टीम के सदस्यों ने मुझे यह प्रमोशन दिलाने में मदद की. मैं एक मां हूं और कभी नहीं चाहती कि कोई अपना बच्चा खोए. हमने बच्चों को बचाने के लिए लापता रिपोर्ट पर हर दिन चौबीसों घंटे काम किया.

इसे भी पढ़ें : बराक ओबामा की किताब ए प्रॉमिस्ड लैंड… कीमत 45 डॉलर…24 घंटे में  8,90,000 प्रतियां बिकीं…

बच्चे को खोजने के लिए बाढ़ के दौरान दो नदियां पार की

सीमा  ढाका के अनुसार  उनके लिए सबसे चुनौतीपूर्ण मामला इस साल अक्टूबर में पश्चिम बंगाल से एक नाबालिग को छुड़ाना था. कहा कि पुलिस दल ने नावों में यात्रा की और बच्चे को खोजने के लिए बाढ़ के दौरान दो नदियां पार की. इस संबंध में लड़के की मां ने दो साल पहले शिकायत दर्ज की थी, लेकिन बाद में अपना पता और मोबाइल नंबर बदल दिया. हम उसे ट्रेस नहीं कर सकते थे लेकिन जानते थे कि वे पश्चिम बंगाल से है.  हम एक छोटे से गांव में गये .  बाढ़ के दौरान दो नदियों को पार किया. हम किसी तरह बच्चे को उसके रिश्तेदार के पास से छुड़ाने में कामयाब रहे.

इसे भी पढ़ें : जम्मू-कश्मीर में मुठभेड़… सेना ने चार आतंकियों को सुबह पांच बजे मार गिराया… हाइवे बंद 

 

 

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: