Corona_UpdatesNational

सर्दियों में दिल्लीवासियों की बढ़ेगी परेशानी ! वायु प्रदूषण के कारण बढ़ सकते हैं कोविड से मौत के मामले

आइसीएमआर का दावा वायु प्रदूषण का सामना करने से कोविड-19 से मौत के मामले बढ़ सकते हैं

New Delhi: कोरोना का कहर दुनिया में जारी है. इसे लेकर कई तरह के शोध भी सामने आ रहे हैं. यूरोप और अमेरिका में शोध से पता चला है कि अधिक समय तक वायु प्रदूषण का सामना करने से कोविड-19 के कारण मौत के मामले बढ़ सकते हैं. यह जानकारी मंगलवार को आइसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने दी. ऐसे में सर्दियों में दिल्ली और उत्तर भारत के रहनेवालों के लिए परेशानी बढ़ सकती है, क्योंकि यहां वायु प्रदूषण अधिक होता है.

Jharkhand Rai

इसे भी पढ़ेंः  बिहार विधानसभा चुनाव :  वोटिंग के बीच पीएम मोदी और राहुल की जनसभाएं आज

आइसीएमआर के महानिदेशक बलराम भार्गव ने कहा कि अध्ययन में पता चला है कि ‘वायरस के कण पीएम 2.5 पार्टिकुलेट मैटर के साथ हवा में रहते हैं लेकिन वे सक्रिय वायरस नहीं हैं.’ भार्गव ने बताया कि, ‘यूरोप और अमेरिका में प्रदूषित क्षेत्रों और लॉकडाउन के दौरान मृत्यु दर की तुलना की गई और प्रदूषण के साथ उनका संबंध देखा तो पाया कि कोविड-19 से होने वाली मृत्यु में प्रदूषण का स्पष्ट योगदान है और इन अध्ययनों से यह अच्छी तरह साबित होता है.’

सर्दियों में दिल्लीवासियों की बढ़ सकती है परेशानी

दिल्ली सहित उत्तर भारत में हर वर्ष सर्दी के मौसम में वायु गुणवत्ता काफी खराब स्तर तक गिर जाती है. विशेषज्ञों ने चेतावनी दी है कि वायु प्रदूषण के उच्च स्तर से कोविड-19 महामारी की स्थिति और खराब हो सकती है. भार्गव ने कहा कि यह साबित तथ्य है कि प्रदूषण का संबंध मौत से है और कहा कि कोविड-19 और प्रदूषण से बचाव का सबसे सस्ता तरीका मास्क पहनना है.

Samford

उन्होंने कहा कि ज्यादा प्रदूषण वाले शहरों में महामारी नहीं होने के बावजूद लोग मास्क पहनते हैं. आइसीएमआर प्रमुख ने कहा, ‘कोविड-19 दिशानिर्देशों में चाहे मास्क पहनना हो, सामाजिक दूरी का पालन करना हो, सांस लेने का तरीका हो और हाथ की साफ-सफाई करनी हो, हमें उसमें ज्यादा खर्च नहीं करना पड़ता. मास्क पहनने का दोहरा फायदा है, क्योंकि यह कोविड-19 के साथ ही प्रदूषण से भी बचाता है.’
इसे भी पढ़ेंः जम्मू-कश्मीरः बडगाम में सुरक्षाबलों से मुठभेड़ में दो आतंकवादी ढेर

17 साल से कम उम्र के 8 फीसदी केस

भारत में बच्चों में कोरोना वायरस संक्रमण के बारे में उन्होंने कहा कि देश का संपूर्ण आंकड़ा दर्शाता है कि कोविड-19 के कुल संक्रमित मामलों में से केवल आठ फीसदी ही 17 वर्ष से कम उम्र के हैं. भार्गव ने कहा, ‘पांच वर्ष से कम उम्र में संभवत: एक फीसदी से कम हैं.’ उन्होंने कहा कि इस तरह के साक्ष्य हैं कि बच्चे संक्रमण के सुपर स्प्रेडर की बजाय स्प्रेडर हो सकते हैं.

एक सवाल के जवाब में भार्गव ने कहा कि भारत में अभी तक एक भी मामला सामने नहीं आया है जिसमें कोविड-19 रोगियों में कोवासाकी बीमारी हो. बता दें कि कावासाकी स्वत: प्रतिरोधक बीमारी है जो पांच वर्ष से कम उम्र के बच्चों को प्रभावित करती है.

इसे भी पढ़ेंः Jharkhand Academic Council की मध्यमा, मदरसा व इंटर वोकेशनल की परीक्षा आज से

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: