न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दिल्ली : एक ही घर में 11 शव मिलने से इलाके में हड़कंप

2,143

New Delhi : दिल्ली के बुराड़ी स्थित एक घर से 11 लोगों के शव मिले हैं. जिसके बाद इलाके में हड़कंप मच गया है. मृतकों में तीन नाबालिगों सहित सात महिलाएं और चार पुरुष शामिल हैं. सभी शव रस्सी से लटके मिले हैं. यह घटना बुराड़ी स्थित संत नगर की गली नंबर-2 की है. इधर घटना की सूचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया और घटना की जांच में जुट गयी.

इसे भी पढ़ें- जल, जंगल, जमीन किसी के लिए नारा होगा लेकिन यह हमारे लिए अमानत है : रघुवर दास

घटना हत्या या आत्महत्या ! जांच में जुटी पुलिस

घटना के बारे में बताया जा रहा है कि मृतकों में कुछ की आंखों में पट्टी बंधी हुई थी वहीं कुछ के हाथ पैर बंधे हुए थे. एक बुर्जुग महिला का शव फर्स्ट फ्लोर जमीन पर पड़ा था. जिसके बाद यह अनुमान लगाया जा रहा है कि उनका गला दबाया गया है. वहीं घटना को लेकर हत्या की आशंका जतायी जा रही है. अब यह पूरी घटना आत्महत्या है या फिर हत्या यह पुलिस जांच के बाद ही पता चलेगा. पुलिस को घर से कोई सुसाइड नोट नहीं मिला है. ऐसे में पुलिस आसपास के लोगों से पूछताछ कर आत्महत्या या हत्या के कारणों की पड़ताल में जुटी है. फिलहाल पुलिस दोनों ही एंगल से घटना की जांच कर रही है. ताकि घटना की सच्चाई सामने आ सके. गौरतलब है कि जिस घर से शव बरामद किए गए हैं, वह दो मंजिला है.

इसे भी पढ़ें- रघुवर सरकार के चार साल में छह विस सीटों पर हुए उपचुनाव, अगला उपचुनाव कोलेबिरा सीट के लिए लगभग तय

घर का दरवाजा खुला था

आसपास के लोगों ने बताया कि परिवार इलाके में लगभग 23 सालों से रह रहा था. यह एक ज्वाइंट फैमिली थी, जो राजस्थान से यहां आया था. इस परिवार में दो भाई, उनकी बुजुर्ग मां और पत्नियों के अलावा करीब 16 से 17 साल के दो लड़के और चार बेटियां थी. परिवार का दूध, प्लाईवुट और किराने का दुकान था. लोगों ने बताया कि सुबह होते ही दूध की दुकान खुल जाया करती थी. सुबह जब लोग दूध लेने दुकान गए तो देखा कि दुकान बंद है. जिसके बाद एक उनके घर गया तो देखा कि घर का दरवाजा खुला था और घर पर सभी लोग रस्सी से लटके थे. जिसके बाद उस व्यक्ति ने दूसरे पड़ोसियों को इस बात की सूचाना दी और साथ ही पुलिस को भी घटना की जानकारी दी गयी.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: