न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राज्य में पदस्थापित IPS को प्रमोशन देने में हो रही देरी, अब पारा मिलिट्री फोर्स से अफसर लाने की तैयारी

10,878

Ranchi : 2006 बैच के आईपीएस अधिकारियों का प्रमोशन एसपी रैंक से डीआईजी रैंक में होना है. प्रमोशन के लिए बोर्ड हो चुका है, लेकिन जनवरी में ही होने वाले प्रमोशन को एक महीने से ज्यादा वक्त से बाधित रखा गया है. बताया जा रहा है कि, 2006 बैच के आईपीएस अधिकारी के प्रमोशन में सीनियर अधिकारी दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं, जिससे इन अधिकारियों का प्रमोशन लटका हुआ है.

कुछ अधिकारी अब यह कहने लगे हैं कि जब वर्ष 2005 बैच के आईपीएस अफसरों को डीआईजी रैंक में प्रोन्नति देने का वक्त था, तो उसे एक साल पहले से ही प्रभारी डीआइजी बना दिया गया.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

उस समय एसपी रैंक के चार अधिकारियों को एक साल पहले ही डीआईजी रैंक के पद पर पदस्थापित कर दिया गया. जबकि 2006 बैच के आईपीएस अधिकारियों को समय पूरा होने के बाद भी प्रमोशन में देर किया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें – चंदनकियारी में एथलेटिक्स सेंटर था ही नहीं, फिर भी बिछाया जाने लगा इंटरनेशनल सिंथेटिक ट्रैक

राज्य के अफसरों को प्रमोशन नहीं और केंद्रीय बलों के अधिकारियों को लाने की तैयारी

एक तरफ राज्य के पुलिस अफसरों को प्रमोशन नहीं मिल रहा. लेकिन झारखंड पुलिस में केंद्रीय बलों से डीआईजी, कमांडेंट और डिप्टी कमांडेंट रैंक के अफसरों को झारखंड में लाने की तैयारी की गयी है. केंद्रीय बलों से जो अधिकारी झारखंड आएंगे, उन्हें झारखंड में अपने पद से एक रैंक ऊपर का पद मिलेगा.

केंद्रीय बलों से आने वाले अधिकारियों में दो डीआईजी रैंक के अधिकारी अजीत कुमार टेटे और राकेश रंजन लाल शामिल हैं. कमांडेंट रैंक के अधिकारियों में दिनेश मुर्मू और महेश चंद्र शामिल हैं. इसके अलावा डिप्टी कमांडेंट रैंक के अधिकारियों में दिलीप कुमार पासवान, सत्य नारायण चौबे, जितेंद्र कुमार और रोशन लकड़ा शामिल हैं.

इन अधिकारियों ने झारखंड सरकार के आग्रह पर झारखंड में काम करने की इच्छा जतायी है. गृह मंत्रालय ने इसकी स्वीकृति दे दी है. वहीं डीआईजी रैंक के अधिकारियों को छोड़कर कमांडेंट और डिप्टी कमांडेंट रैंक के अधिकारियों को भी झारखंड में अपने रैंक से एक रैंक ऊपर का प्रमोशन देकर पोस्टेड किया जाएगा.

Gupta Jewellers 20-02 to 25-02

इसे भी पढ़ें – टीबी मुक्ति के लिए सालाना करीब 30 करोड़ का बजट बावजूद इसके पांच सालों में बढ़ गये 21522 मरीज

स्टेट पुलिस सर्विस के अफसरों में नाराजगी

झारखंड राज्य का गठन होने के बाद से स्टेट पुलिस सर्विस में बहाल हुए डीएसपी रैंक के किसी भी अधिकारी को अब तक किसी भी रैंक में प्रमोशन नहीं दिया गया है. इस स्थिति में झारखंड पुलिस में केंद्रीय बल से अधिकारियों को झारखंड में लाये जाने की तैयारी से झारखंड पुलिस सर्विस के अधिकारियों में नाराजगी है. गौरतलब है कि राज्य में प्रमोशन कोटे से भरे जाने वाले एक दर्जन से ज्यादा पद खाली हैं.

झारखंड गठन के बाद बिहार से आये डीएसपी रैंक के पांच अफसरों को 2017 में प्रमोशन दिया गया था. फिलहाल राज्य में सीनियर डीएसपी के 29 पद रिक्त हैं. इन पदों के लिए 70 डीएसपी को योग्य पाया गया है. लेकिन सरकार ने इन पदों पर प्रमोशन नहीं दिया.

2006 बैच के अधिकारियों को मिलेगा प्रमोशन तभी भरेंगे खाली पद

2006 बैच के एसपी रैंक के अधिकारियों को अगर सही समय से डीआईजी रैंक में प्रमोशन दिया जायेगा,  तभी खाली पद भर पायेंगे. वर्तमान में झारखंड पुलिस में डीआईजी रैंक के सात पोस्ट खाली पड़े हैं या फिर अतिरिक्त प्रभार में चल रहा है.

खाली पड़े पोस्ट को तभी भरा जा पायेगा, जब वर्ष 2006 बैच के अधिकारियों को डीआइजी रैंक में प्रमोशन दे दिया जाये. हालांकि वर्ष 2005 बैच के अधिकारियों को एक साल पहले पद का लाभ दे देने और वर्ष 2006 के अधिकारियों के मामले में विलंब होने की वजह से कई सवाल खड़े हो रहे हैं.

डीआईजी रैंक के खाली पड़े पोस्ट में डीआईजी बजट,  डीआईजी कार्मिक, डीआईजी जैप,  डीआईजी जगुआर, डीजीएस एसआईबी,  डीआईजी वायरलेस और डीआईजी जंगल वॉरफेयर स्कूल के पद भरे जा सकते हैं. पलामू रेंज डीआईजी का अतिरिक्त प्रभार रांची रेंज के डीआईजी को दिया गया है.

इसे भी पढ़ें –#Pulse अस्पताल के निर्माण की होगी जांच, हेमंत सोरेन ने रांची डीसी को दिया आदेश

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like