न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिना ऑर्डिनेंस और स्टीट्यूट के निजी विश्वविद्यालय बांट रही हैं डिग्रियां

515

Ranchi: झारखंड में निजी विश्वविद्यालयों का आगमन 2013 से शुरु हुआ. निजी विश्वविद्यालय एक्ट के तहत झारखंड में 4 विश्वविद्यालय स्थापित किए गए. विधानसभा में निजी विश्वविद्यालयों का एक्ट पारित हुआ, इसके बाद से निजी विश्वविद्यालय अपना कैंपस राज्य में स्थापित किए.

इसे भी पढ़ेंः नियम की धज्जियां उड़ा रही साईनाथ यूनिवर्सिटी, बिना कुलपति के बांटती है डिग्रियां

इन निजी विश्वविद्यालयों ने अपने कैंपस में कई कोर्स चलाते हुए बच्चों को डिग्रियां-अवार्ड विश्वविद्यालय कैंपस में दीक्षांत समारोह के माध्यम से बांटी गई. लेकिन अभी तक राज्य के किसी निजी विश्वविद्यालय द्वारा विधानसभा में डिग्री प्रदान करने हेतु ऑर्डिनेंस एक्ट पारित नहीं किया गया. बिना सरकार की सूचना के इन निजी विश्वविद्यालयों द्वारा डिग्रियां प्रदान की गई.

बगैर ऑर्डिनेंस पास कराये बांटी गई डिग्री

ज्ञात हो कि 2013 में झारखंड राय यूनिवर्सिटी, उषा मार्टिन यूनिवर्सिटी, इक्कफाई यूनिवर्सिटी, साईनाथ यूनिवर्सिटी की स्थापना हुई थी. इन सभी यूनिवर्सिटी द्वारा सरकार को यह सूचना नहीं दी गई कि अब इनके माध्यम से गजट पास कर डिग्री अवार्ड किया जा रहा है. यही नहीं, इन यूनिवर्सिटी के द्वारा ऑर्डिनेंस एक्ट को विधानसभा में ना ही पास कराया और ना ही इनके गजट को सार्वजनिक किया गया. ज्ञात हो कि झारखंड यूनिवर्सिटी मॉडल गाइडलाइन के तहत यूनिवर्सिटी की स्थापना होने के बाद सभी यूनिवर्सिटी को मॉडर्न गाइडलाइन के तहत अपने इंस्टीट्यूट और ऑर्डिनेंस को विधानसभा से पारित कराना होता है. इसके बाद ही विश्वविद्यालय डिग्री बांटने का काम कर सकती हैं.

silk_park

इसे भी पढ़ेंःप्रोफेसर साहब के पद और ओहदे के चक्कर में पिस रहे विद्यार्थी, छात्र करते रहते हैं इंतजार

क्या कहती हैं शिक्षा मंत्री

शिक्षा मंत्री नीरा यादव ने कहा कि निजी विश्वविद्यालय अगर सरकार के नियमों और छात्रों को डिग्रियां बांटने में सरकार के समक्ष पारदर्शिता नहीं रखेंगे, तो उनपर कार्रवाई की जाएगी. जल्द ही सभी निजी विश्वविद्यालयों के साथ सरकार बैठक करने जा रही है और इस दिशा में निजी विश्वविद्यालयों को दिशा-निर्देश भी देने जा रही है. जहां तक ऑर्डिनेंस गाइड लाइन की बात है तो इस संबंध में निजी विश्वविद्यालयों से जल्द ही बात कर उनसे उनका पक्ष लेने के बाद ही सरकार उन पर करवाई कर सकती है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: